NDTV Khabar

लिएंडर पेस के साथ भले ही अब सबकुछ ठीक न हो, लेकिन 'अच्छे दिन' नहीं भूल पा रहे महेश भूपति...

पिछले कुछ समय से लिएंडर पेस और महेश भूपति के बीच एक बार फिर तनातनी की खबरें चर्चा में रही हैं. दोनों के बीच डेविस कप के दौरान तनाव पैदा हो गया था.

16 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लिएंडर पेस के साथ भले ही अब सबकुछ ठीक न हो, लेकिन 'अच्छे दिन' नहीं भूल पा रहे महेश भूपति...

महेश भूपति और लिएंडर पेस की जोड़ी डबल्स में वर्ल्ड नंबर वन रही है... (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. महेश भूपति ने पेस को डेविस कप में नहीं खिलाया था
  2. दोनों की जोड़ी ने भारत के लिए कई खिताब जीते थे
  3. भारत का डेविस कप में अगला मुकाबला कनाडा से होना है
कोलकाता: पिछले कुछ समय से लिएंडर पेस और महेश भूपति के बीच एक बार फिर तनातनी की खबरें चर्चा में रही हैं. दोनों के बीच डेविस कप के दौरान तनाव पैदा हो गया था, जब कप्तान भूपति ने उज्बेकिस्तान के खिलाफ पेस को अंतिम समय पर टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया था. इस पर पेस ने काफी नराजगी जाहिर की थी और इसे देशहित के खिलाफ बताया था. वैसे पेस और भूपति के बीच यह टसल लंबे समय से चली आ रही है. इस बीच विवादों से इतर महेश भूपति ने पेस के साथ बिताए पलों को अविस्मरणीय करार दिया है और कहा है कि उन दोनों जैसा कमाल कोई नहीं कर पाएगा.

महेश भूपति ने डबल्स में अपने जोड़ीदार लिएंडर पेस के साथ बिताए गए दिनों को याद करते हुए कहा कि यदि हम विवादों से परे सोचें, तो उनके द्वारा साथ में हासिल की गईं सफलताओं को दोहराया नहीं जा सकेगा. 

भूपति इस समय भारत की डेविस कप टीम के नॉन प्लेइंग कप्तान हैं. उन्होंने यह बात एक किताब के विमोचन कार्यक्रम के बाद कही. उन्होंने पेस के साथ बिताए दिनों को याद करते हुए कहा, 'यदि विवादों को एक तरफ रख देते हैं, तो हमने 1996 से 2002 के बीच एक टीम के रूप में जो कुछ हासिल किया, उसे भारतीय टेनिस में दोहराया नहीं जा सकता.'

गौरतलब है कि भूपति और पेस की जोड़ी ने 100वें स्थान से सफर शुरू किया था और नंबर वन जोड़ी बन गए थे. हालांकि बाद में दोनों के बीच मनमुटाव हो गया और यह जोड़ी टूट गई. दोनों ने साथ आने की कोशिश भी की, लेकिन बात नहीं बनी.

पेस और भूपति की जोड़ी ने मिलकर 25 एटीपी युगल खिताब जीते हैं जिसमें तीन ग्रैंड स्लैम शामिल हैं. डेविस कप में दोनों के नाम लगातार 23 डबल्स मुकाबले जीतने का रिकॉर्ड दर्ज है.

उन्होंने कहा, 'दो युवा खिलाड़ियों का 100वें स्थान से नंबर एक पर आना बेहद शानदार था. कई कारणों से हमारे बीच बात नहीं बनी. हमने कई बार कोशिश की. आप हमें कोशिश न करने का दोषी नहीं मान सकते.'

उन्होंने कहा, "हमने अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश की क्योंकि हम जानते थे कि हमारा रिश्ता सिर्फ हमारे लिए ही नहीं बल्कि देश के लिए भी काफी जरूरी है."

टिप्पणियां
भारत को कनाडा के खिलाफ अपना अगला डेविस कप मुकाबला 15 से 17 सितंबर के बीच खेलना है. भूपति से जब पेस के चयन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'हम इस पर विचार करेंगे. कनाडा के खिलाफ सितंबर में हमारे लिए मुश्किल मुकाबला है. हमारे पास वर्ल्ड ग्रुप में जाने का मौका है."

भारतीय टेनिस पर भूपति ने कहा, 'हम सही दिशा में जा रहे हैं. हमारे कई खिलाड़ी इस समय 200 से 300 की रैंकिंग के बीच में हैं. इस समय भारतीय टेनिस अपने शीर्ष पर है. उम्मीद है कि इनमें से कोई खिलाड़ी बदलाव लाएगा और शीर्ष 100 में जगह बनाएगा.'
(इनपुट एजेंसियों से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement