NDTV Khabar

टेनिस : विंबलडन चैंपियनशिप कल से, सेरेना, मारिया की गैरमौजूदगी में मिलेगी नई महिला चैंपियन!

सेरेना विलियम्स बच्चे के जन्म की तैयारियों में जुटी हैं, वहीं मारिया शारापोवा जांघ की चोट के कारण विंबलडन में नहीं खेल रही हैं.

108 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
टेनिस : विंबलडन चैंपियनशिप कल से, सेरेना, मारिया की गैरमौजूदगी में मिलेगी नई महिला चैंपियन!

सेरेना विलियम्‍स प्रेग्‍नेंसी के कारण विंवलडन टूर्नामेंट में नहीं खेल रही हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सेरेना विलियम्‍स 2015 और 2016 में रही हैं यहां चैंपियन
  2. मारिया शारापोवा को चोट के कारण टूर्नामेंट से हटना पड़ा
  3. पुरुष वर्ग में रोजर फेडरर की दावेदारी माना जा रही मजबूत
लंदन: महिला टेनिस की स्‍टार खिलाड़ी सेरेना विलियम्स बच्चे के जन्म की तैयारियों में जुटी हैं, वहीं मारिया शारापोवा जांघ की चोट के कारण कल से यहां शुरू होने वाले विंबललडन टूर्नामेंट में नहीं खेल पाएंगी जिससे सभी खिलाड़ियों के पास इस ग्रैंडस्लैम में ट्रॉफी हथियाने का बराबरी का मौका होगा. वर्ष 2015 और 2016 में खिताब जीतने वाली सेरेना सितंबर में मां बनेंगी और उनके कोर्ट से दूर रहने से शीर्ष स्तर पर एक खालीपन आ गया. उम्मीद थी कि डोपिंग प्रतिबंध से वापसी करने के बाद रूसी स्टार शारापोवा इसे भरने में सफल रहेगी, लेकिन मांसपेशियों में चोट के कारण उन्हें महज तीन टूर्नामेंट खेलने के बाद विम्बलडन क्वालीफाइंग टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा. पुरुष वर्ग में उम्रदराज होने के बावजूद स्विस स्टार रोजर फेडरर ट्रॉफी के प्रबल दावेदार हैं

सेरेना 23 ग्रैंडस्लैम खिताब अपने नाम कर चुकी हैं. उनकी और शारापोवा की अनुपस्थिति में महिलाओं के टेनिस में स्टार खिलाड़ियों की कमी दिखती है. इससे विंबलडन में किसी भी खिलाड़ी को प्रबल दावेदार नहीं कहा जा सकता, लेकिन इससे अन्य खिलाड़ियों को सुखर्यिों में आने का मौका मिला जैसे लातिविया की येलेना ओस्टापेंको ने फ्रेंच ओपन में सभी को चौंकाते हुए खिताब जीता था.दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी एंजलिक कर्बर ने कहा, 'निश्चित रूप से, अगर सेरेना नहीं खेल रही तो यह थोड़ा अलग ही होगा. सब कुछ संभव है, विशेषकर इन दो हफ्तों में. अभी काफी अच्छी खिलाड़ी आ रही हैं, वे बड़े टूर्नामेंट जीत सकती हैं.' बीस वर्षीय ओस्टापेंको ने रोलां गैरां के फाइनल में सिमोना हालेप को हराकर खिताब जीता जिससे वह विश्व रैंकिंग में 47वें स्थान से उछलकर 13वें स्थान पर पहुंच गई हैं. वैसे अब उन्हें साबित करना होगा कि यह सिर्फ संयोग से ही नहीं हुआ.

उधर, पुरुष वर्ग में स्विस स्टार रोजर फेडरर अपने पसंदीदा विम्बलडन ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में ट्रॉफी के प्रबल दावेदार हैं. वह रिकॉर्ड आठवां खिताब हासिल करने के साथ टूर्नामेंट के सबसे उम्रदराज चैम्पियन बनने की कोशिश करेंगे. फेडरर अगस्त में 36 वर्ष के हो जायेंगे, उन्हें 12 महीने पहले यहीं पर सेंटर कोर्ट में सेमीफाइनल में पांच सेट तक चले मुकाबले में मिलोस राओनिच से पराजय का मुंह देखना पड़ा था, जिसके बाद आलोचकों ने उन्हें चुका हुआ लिख दिया था.

इस हार के बाद घुटने की चोट के कारण उन्हें साल के बचे हुए दौरे से हटने के लिये बाध्य होना पड़ा था, जिससे वह 2012 तक के अपने 17 ग्रैंडस्लैम खिताब पर ही बरकरार रहे पर इस साल जनवरी में उन्होंने अपना पांचवां ऑस्ट्रेलियन ओपन अपने नाम किया.  फेडरर सात विंबलडन खिताब जीतकर पीट सम्प्रास की बराबरी पर हैं. अब वह उनसे आगे बढ़कर अपने मेजर ट्रॉफियों की संख्या 19 करना चाहेंगे. हालांकि उनके प्रतिद्वंद्वी एंडी मरे और नोवाक जोकोविक इतनी फार्म में नहीं हैं, वहीं राफेल नडाल भी अपने घुटने को लेकर थोड़े परेशान हैं कि वह ग्रासकोर्ट का दबाव झेल पायेंगे या नहीं जिससे फेडरर का पलड़ा थोड़ा भारी ही दिखता है.

फेडरर अपने अभियान की शुरुआत यूक्रेन के एलेक्जैंडर डोलगोपोलोव के खिलाफ करेंगे. उन्होंने कहा कि अगर एंडी शारीरिक रूप से शत प्रतिशत फिट रहता है तो मैं उसे खिताब जीतने के प्रबल दावेदारों में से एक मानूंगा. यह बिलकुल सरल बात है. इसी तरह नोवाक और राफा के साथ भी कुछ ऐसा ही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement