100 साल पहले पड़ गई थी विश्व कप की नींव

खास बातें

  • यह उन दिनों की बात है जबकि पहले दो विश्व कप का चैंपियन वेस्टइंडीज और उसके बाद खिताब जीतने वाला भारत अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला करता था।
New Delhi:

क्रिकेट के महाकुंभ यानी विश्व कप की शुरुआत भले ही आज से 36 साल पहले हुई लेकिन इसकी नींव लगभग 100 साल पूर्व 1912 में रख दी गई थी। यह उन दिनों की बात है जबकि पहले दो विश्व कप का चैंपियन वेस्टइंडीज और उसके बाद खिताब जीतने वाला भारत अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला करता था। उस समय सीमित ओवरों की क्रिकेट नहीं थी और केवल तीन टीमें ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका टेस्ट मैच खेलती थी। इसलिए इन तीनों टीम के बीच 27 मई से 22 अगस्त 1912 के बीच टेस्ट क्रिकेट का त्रिकोणीय टूर्नामेंट खेला गया था। इस तरह के टूर्नामेंट का प्रस्ताव इम्पीरियल क्रिकेट परिषद :जो बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद बनी: ने जुलाई 1909 में अपनी पहली बैठक में रखा था। खराब मौसम और प्रतिस्पर्धी क्रिकेट के अभाव में हालांकि यह टूर्नामेंट सफल नहीं हो पाया और फिर ऐसी प्रतियोगिताएं आयोजित नहीं की गई लेकिन विश्व कप सहित इस तरह के टूर्नामेंट के लिए आगे मार्गदर्शक बन गया। इसके बाद जब 1960 में सीमित ओवरों के क्रिकेट की शुरुआत हुई तो कई टीमों के बीच टूर्नामेंट आयोजित करने की उम्मीद बंध गई। इंग्लैंड में काउंटी टीमों के बीच नाकआउट टूर्नामेंट ने इस उम्मीद पर पंख लगाए तो महिला क्रिकेटर पुरुषों के लिए प्रेरणा बनी जिन्होंने 1973 में पहला विश्व कप खेलकर पुरुष विश्व कप के लिए रास्ता तैयार किया था। महिला विश्व कप व्यवसायी जैक हेवार्ड के दिमाग की उपज था। उन्होंने इस टूर्नामेंट पर तब 40, 000 पौंड खर्चा किया था। इंग्लैंड में खेले गए इस विश्व कप में सात टीमों ने शिरकत की थी। मेजबान इंग्लैंड ने 28 जुलाई को एजबेस्टन में खेले गए फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को हराकर खिताब जीता था। इंग्लैंड में काउंटी टीमों के बीच नाकआउट टूर्नामेंट के आयोजन का विचार लीस्टरशर के सचिव माइक टर्नर ने रखा था। इंग्लैंड में इसके बाद मिडलैंड्स कप का आयोजन किया गया जबकि 1963 से शुरू होने वाला जिलेट कप काफी मशहूर रहा। पहला एकदिवसीय मैच पांच जनवरी 1971 को ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच मेलबर्न में खेला गया था जिसके चार साल बाद इंग्लैंड में शुरुआती विश्व कप का आयोजन किया गया। इंग्लैंड में ही तब इस तरह के बड़े टूर्नामेंट आयोजित करने के लिए आधारभूत ढांचा था इसलिए उसने न सिर्फ 1975 बल्कि इसके बाद 1979 और 1983 के विश्व कप की मेजबानी भी की। वेस्टइंडीज 1975 और 1979 में पहले दोनों विश्व कप जीतने में सफल रहा जबकि 1983 में भारत ने चैंपियन बनकर पूरे क्रिकेट जगत को हैरान कर दिया था। विश्व कप पहली बार इंग्लैंड से बाहर 1987 में भारत और पाकिस्तान में संयुक्त रूप से आयोजित किया गया जिसमें ऑस्ट्रेलिया अपना पहला खिताब जीतने में सफल रहा। ऑस्ट्रेलिया को पहली बार 1992 में मेजबानी का मौका मिला जहां पाकिस्तान चैंपियन रहा। भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका ने 1996 में जब मेजबानी की तो श्रीलंकाई टीम ने खिताब जीता। इसके बाद 1999 में इंग्लैंड, 2003 में दक्षिण अफ्रीका और 2007 में वेस्टइंडीज में आयोजित किए गए विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया चैंपियन बना। अब भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश में संयुक्त रूप से विश्व कप आयोजित किया जा रहा है जबकि 2015 में इसकी मेजबानी ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड करेंगे।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com