यह ख़बर 08 सितंबर, 2013 को प्रकाशित हुई थी

कुश्ती को बचाने की अंतिम कोशिश कर चुके खिलाड़ी

कुश्ती को बचाने की अंतिम कोशिश कर चुके खिलाड़ी

खास बातें

  • भारतीय ओलिंपिक संघ ओलिंपिक मूवमेंट से बाहर है। अब कुश्ती भी ओलिंपिक से बाहर हो जाती है तब देश को डबल झटका लग सकता है। 8 सितंबर को होने वाले फैसले से पहले भारतीय कुश्ती से जुड़े एथलीट्स खेल को बचाने की आखिरी कोशिश कर रहे हैं।
नई दिल्ली:

भारतीय ओलिंपिक संघ ओलिंपिक मूवमेंट से बाहर है। अब कुश्ती भी ओलिंपिक से बाहर हो जाती है तब देश को डबल झटका लग सकता है। 8 सितंबर को होने वाले फैसले से पहले भारतीय कुश्ती से जुड़े एथलीट्स खेल को बचाने की आखिरी कोशिश कर रहे हैं।

कुश्ती के लिए यह बेहद मुश्किल वक्त है। ये खिलाड़ी जानते हैं कि 8 सितंबर को इनकी किस्मत का फैसला हो सकता है। यह आर−पार की लड़ाई है, लेकिन भारतीय पहलवानों को उम्मीद है कि उनके साथ बुरा नहीं होगा।

डबल ओलिंपिक पदक विजेता बड़े ही आत्मविश्वास से कहते हैं  हमारी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बात हुई है और जिस तरह का माहौल बना है उससे लगता नहीं है कि कुश्ती का बुरा होगा। नतीजा अच्छा ही आएगा।

नेहा राठी को पिछले महीने अर्जुन पुरस्कार से नवाज़ा गया है। उनके पिता जगरूप सिंह भी अर्जुन पुरस्कार विजेता पहलवान रहे हैं। इन सभी पहलवानों के लिए यह मौका जश्न मनाने से ज़्यादा खेल बचाने का है।

नेहा राठी कहती हैं, मैं तो बच्चों को भी ओलिंपिक के लिहाज से ही तैयार करवाना चाहती हूं। खुद भी कोशिश कर रही हूं कि ओलिंपिक खेलूं, ये तो हमारे लिए झटका होगा।

बिग बॉस की एक्टर और चंदगीराम की बेटी पूर्व पहलवान सोनिका कालीरमन कहती हैं मैं तो सोच भी नहीं सकती कि ओलिंपिक बगैर कुश्ती के होगी। मेरे लिए ये बहुत बड़ा सदमा होगा।

पहलवान यह तो मानते हैं कि उन अधिकारियों से चूक हुई है। इसका थोड़ा फायदा स्क्वॉस को मिला है जिन्होंने अपनी तरफदारी के लिए कई क्रिकेटरों का साथ हासिल कर लिया है।

Newsbeep

अंतरराष्ट्रीय स्क्वॉश संघ के अध्यक्ष एन रामचंद्रन मानते हैं कि उनके खेल में वह सब कुछ है जिसकी वजह से इसे ओलिंपिक का स्टेटस हासिल हो जाना चाहिए।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


8 सितंबर को कुश्ती बेसबॉल और स्क्वॉश में से जो भी बाज़ी मारे दूसरे खेलों को उससे सबक लेनी होगी। भारत सहित दुनिया के सभी खेल संघों के लिए ये संदेश है कि अगर लगातार बेहतर करने की कोशिश नहीं कि तो एक दिन वजूद को बचाने की जंग लड़नी पड़ सकती है।