NDTV Khabar

WWE की फाइट रियल या फेक? सारे सवालों के जवाब यहां पढ़ें

क्या ये फाइइस शो में रोमांस, फाइट, ट्रेजडी और एंटरटेनमेंट का जबरदस्त कॉम्बिनेशन है.

873 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
WWE की फाइट रियल या फेक? सारे सवालों के जवाब यहां पढ़ें

डब्‍ल्‍यूडब्‍ल्‍यूई फाइट का एक दृश्‍य

खास बातें

  1. WWE की ज्‍यादातर फाइट स्‍क्रिप्‍टड होती हैं
  2. खून नि‍कालने के ल‍िए क‍िया जाता है कैप्‍सूल का इस्‍तेमाल
  3. हारने पर म‍िलते हैं ज्‍यादा पैसे
नई द‍िल्‍ली : एक सबसे बड़ा सवाल? क्या WWE के रिंग में खेले जाने वाले मुकाबले असली होते हैं? अक्सर देखने वाले कहते हैं कि असली होती है तो कुछ कहते हैं कि सबकुछ नकली होता है. लेकिन लोग कंफ्यूज हो जाते हैं कि आखिर पिक्चर क्या है. इंडिया में WWE की अच्छी खासी फॉलोइंग है. बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक हर कोई इसका फैन है.

पढ़ें: WWE की रिंग में सूट-सलवार पहन कुश्ती करती कविता ने यूट्यूब पर मचाई धूम

इस शो में रोमांस, फाइट, ट्रेजडी और एंटरटेनमेंट का जबरदस्त कॉम्बिनेशन है. लेकिन इन सबके बावजूद फैन्स के जेहन में कई सवाल होते हैं. जैसे-फाइट असली है या महज स्क्रिप्टेड ड्रामा, बड़ा पहलवान छोटे से कैसे हार जाता है? हम आपको बताते हैैं WWE मेेंं क्‍या है असली और कौन सी बातेंं हैं फरेब: 

पढ़ें: यहां खिलाड़ी बिजनेस की ओर जाता है और खेल छोड़ देता है

लड़ाई मे कितनी सच्चाई
WWE से बाकायदा राइटर्स जुड़े हैं, जो फाइट की स्क्रिप्ट लिखते हैं. हार-जीत और पहलवानों के ज्यादातर मूव्स भी तय होते हैं. अंतर बस यहा है कि इसमें रीटेक का मौका नहीं होता और रेसलर के पास गलती करने की गुंजाइश नहीं होती.

wwe no mercy stephanie mcmahon vs vince mcmahon

क्या बॉडी बनाने के लिए ड्रग्स का इस्तेमाल करते हैं रेसलर्स ?
ऐसे आरोप लगते रहते हैं कि अच्छी बॉडी और स्टेमिना के लिए कुछ रेसलर्स स्टेरॉयड्स और ड्रग्स लेते हैं. हालांकि, इसे रोकने के लिए WWE वेलनेस पॉलिसी है, लेकिन फिर भी स्टेरॉयड्स लेने के मामले सामने आते रहते हैं.

पढ़ें:  जब बेटी ने बाप पर पाइप से कर दिया हमला, फिर बाप को आया गुस्सा और...

क्या रेसलर्स के मुव्स से दर्द होता है? 
आम लोगों को लगता है की रिंग इस तरह से बनाई जाती है की रेसलर्स को लड़ते हुए कोई दर्द ही नहीं होता है. एक हद तक ये बात सही भी है, लेकिन यहां अच्छी ट्रेनिंग दे जाती है. कई सालों की मेहनत से वो आपस में एक-दूसरे को ज़्यादा नुकसान पहुंचाने से बचते हैं.

सफेद दिखने वाली सतह के ऊपर सफ़ेद रंग की मैट और उस मैट के नीचे लकड़ी होती है, ये लकड़ी स्प्रिंग के साथ इस तरह से लगाई जाती है की चोट कम लगे. इसके साथ ही रिंग के नीचे माइक लगाया जाता है ताकि रेसलर्स की आवाज़ आसानी से आए.
 
wwe wwe raw

हारने पर ज्यादा पैसा? 
WWE की फाइट्स स्क्रिप्टेड होती हैं, इसलिए रेसलर्स की फीस भी स्क्रिप्ट और रेसलर की स्टार वैल्यू के आधार पर तय होती है. यानी कभी-कभी हारने वाले को भी उसके 'रोल' के हिसाब से ज्यादा पैसा मिल सकता है.

हथियारों का सच...
रेस्लिंग में हमेशा हथियारों का प्रयोग होता हुआ है. 75 फीसदी हथियार एक दम असली होते हैं. स्टील चेयर, हथोड़ा, सीढ़ी और बाकी हथियार असली होते हैं. रेसलर्स, रेस्लिंग स्कूल में कई सालों तक इन हथियारों का सही इस्तेमाल सीखते हैं. टेबल्स और चीजें कमजोर होती हैं, ताकि चोट कम लगें.

रियल ब्लड और इंजरी? 
WWE भले ही स्क्रिप्टेड हो, लेकिन ऐसे कई वाकये हुए हैं, जब रेसलर्स को चोट लगी है और वे विकलांग तक हो गए. इसके अलावा ज्यादातर मामलों में खून असली ही होता है. खून थूकने के इफेक्ट के लिए ब्लड कैप्सूल्स इस्तेमाल किए जाते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement