Bulbbul Movie Review: प्यार, दहशत और दर्द की अनोखी दास्तान है 'बुलबुल'

Bulbbul Review: नेटफ्लिक्स (Netflix) पर अनुष्का शर्मा और उनके भाई कर्णेश शर्मा की फिल्म 'बुलबुल' आज रिलीज हो गई है.

Bulbbul Movie Review: प्यार, दहशत और दर्द की अनोखी दास्तान है 'बुलबुल'

Bulbbul Review: जानें कैसी है 'बुबुल'

खास बातें

  • नेटफ्लिक्स फिल्म है 'बुलबुल'
  • अनुष्का शर्मा और कर्णेश शर्मा हैं प्रोड्यूसर
  • तृप्ति डिमरी हैं लीड रोल में
नई दिल्ली:

Bulbbul Review: नेटफ्लिक्स (Netflix) पर अनुष्का शर्मा और उनके भाई कर्णेश शर्मा की फिल्म 'बुलबुल (Bulbbul)' आज रिलीज हो गई है. अनुष्का शर्मा एक बार फिर एकदम नए किस्म की कहानी 'बुलबुल' लेकर आई है, जिसमें चुड़ैल का डर है तो बचपन का प्यार और इसके साथ ही जीवन की वीभत्स सच्चाई. 'बुलबुल' को लिरिक्स राइटर अनविता दत्त गुप्तान दत्त ने डायरेक्ट किया है, और 'बुलबुल (Bulbbul Movie Review)' के जरिये उन्होंने एकदम अनोखी तरह की दुनिया रची है, ऐसी दुनिया जो बॉलीवुड में बहुत ही कम देखी गई है. 

'बुलबुल (Bulbbul) की शुरुआत बुलबुल की शादी से होती है. बुलबुल एक छोटी बच्ची है, जिसका बाल विवाह कर दिया जाता है. लेकिन उसे यह गलतफहमी हो जाती है कि उसका ब्याह उसके हमउम्र सत्या से हुआ है. लेकिन उसका पति तो कोई और निकलता है, और इस तरह बुलबुल की पूरी जिंदगी ही बदलकर रह जाती है. बुलबुल और सत्या का साथ ज्यादा नहीं रह पाता और वह चला जाता है. लेकिन जब सत्या लौटकर आता है तो दुनिया पूरी तरह बदल चुकी होती है. एक चुड़ैल का खौफ पूरे इलाके पर है, और वह लोगों का कत्ल कर रही है. इस तरह फिल्म कड़वी सच्चाइयों के साथ ही रहस्य भी समेटे हुए है. 

Newsbeep

अनविता दत्त ने बहुत ही खूबसूरती के साथ 'बुलबुल (Bulbbul Movie Review)' को रचा है, और महिलाओं के दर्द को भी बखूबी पेश किया है. फिल्म में बुलबुल के किरदार में तृप्ति डिमरी ने अच्छा काम किया है और सत्या के रोल में अविनाश तिवारी भी खूब जमें हैं. बाकी सभी कलाकारों ने उनका अच्छा साथ दिया है. नेटफ्लिक्स 'बुलबुल (Bulbbul Review) के जरिये ऐसी फिल्म लेकर आए हैं, जो सोचने पर मजबूर तो करती ही है, साथ एंटरटेनमेंट की सॉलिड खुराक भी देती है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रेटिंगः 3.5/5
डायरेक्टर: अनविता दत्त गुप्तान
कलाकारः तृप्ति डिमरी, अविनाश तिवारी, पाउली दाम, राहुल बोस, परमब्रत चटर्जी