NDTV Khabar

इस म्यूजिक डायरेक्टर जोड़ी के लिए आधी फीस में ही गाना गा लेते थे लता मंगेशकर और मोहम्मद रफी

लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल का बहुत कम उम्र में ही म्यूजिक से लगाव हो गया था. दोनों की मुलाकात मुंबई में रंजीत स्टूडियो में क्रिकेट मैच के दौरान हुई थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस म्यूजिक डायरेक्टर जोड़ी के लिए आधी फीस में ही गाना गा लेते थे लता मंगेशकर और मोहम्मद रफी

म्यूजिक डायरेक्टर लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल

खास बातें

  1. लक्ष्मीकांत प्यारेलाल का 54 साल का कामयाबी भरा सफर रहा है
  2. 635 फिल्मों के लिए 3,810 गाने तैयार किए
  3. पारसमणि थी पहली फिल्म
नई दिल्ली: बॉलीवुड में संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत प्यारेलाल का 54 साल का कामयाबी भरा सफर रहा है. 1964 में शुरू हुआ उनका यह सफर आगे चलकर संगीत में बड़ा नाम बन गया जो श्रोताओं पर जादू चलाता रहा. लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के इस उल्लेखनीय सफर से दर्शकों को रूबरू कराने के लिए जावेद अख्तर जैसी शख्सियत से बेहतर भला और कौन हो सकता है! इस वीकेंड जी क्लासिक ‘वो जमाना करे दीवाना‘ में जावेद अख्तर लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के बॉलीवुड में उतार-चढ़ाव से भरे सफर को पेश करने जा रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः इस भोजपुरी सुपरस्टार ने किया इश्क का इजहार, तो हीरोइन ने जड़ दिया झापड़

लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल का बहुत कम उम्र में ही म्यूजिक से लगाव हो गया था. दोनों की मुलाकात मुंबई में रंजीत स्टूडियो में क्रिकेट मैच के दौरान हुई थी. इसके बाद उनकी मुलाकातों का सिलसिला चलता रहा और फिर एक ऐतिहासिक जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल का जन्म हुआ. इस जोड़ी ने दर्शकों को संगीत के एक अनूठे एहसास से रूबरू कराया. जहां लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने 635 फिल्मों के लिए 3,810 गाने तैयार किए वहीं इस जोड़ी की पहली फिल्म थी ‘पारसमणि’. इस फिल्म के सभी गाने बेहद लोकप्रिय हुए थे, खास तौर से ‘हंसता हुआ नूरानी चेहरा’. इसके बाद उन्होंने एक के बाद एक जबरदस्त हिट गाने तैयार किए जो हमें ‘दोस्ती’, ‘मिलन’, ‘ड्रीम गर्ल’, ‘सौदागर’, ‘मिस्टर इंडिया’ और अन्य फिल्मों में सुनने को मिले.

यह भी पढ़ेंः 48 घंटे में बनी 'पद्मावती' की रंगोली, भीड़ ने 'जय श्री राम' के नारों के साथ पलभर में कर दी बर्बाद...!

टिप्पणियां
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल अपने मेंटर लता मंगेशकर और मोहम्मद रफी के सदा एहसानमंद रहे जिन्होंने उनका साथ दिया और इंडस्ट्री में उस समय चल रही फीस से आधी कीमत पर उनके साथ काम किया. जावेद अख्तर बताते हैं, ‘‘फिल्म बॉबी के लिए जब दिग्गज निर्देशक राज कपूर ने उनकी धुन सुनी तो वह सम्मान में उनके आगे झुक गए. राज कपूर ने यह तक कह दिया था कि देवी सरस्वती उन दोनों में वास करती हैं.”

 ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement