NDTV Khabar

जिसकी बहादुरी का सिकंदर भी हो गया था कायल, जानें उस Porus के बारे में 5 बातें

टेलीविजन पर हाल ही में नया सीरियल ‘पोरस’ शुरू हुआ है. इसमें पोरस और सिकंदर की कहानी दिखाई जा रही है, जो काफी रोचक मानी जाती है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जिसकी बहादुरी का सिकंदर भी हो गया था कायल, जानें उस Porus के बारे में 5 बातें

पोरस सीरियल का एक सीन

खास बातें

  1. टीवी पर आ रहा है पोरस
  2. सिकंदर और पोरस की जंग है
  3. भव्य सेट बनाए गए हैं पोरस के लिए
नई दिल्ली: टेलीविजन पर हाल ही में नया सीरियल ‘पोरस’ शुरू हुआ है. इसमें पोरस और सिकंदर की कहानी दिखाई जा रही है. पोरस और सिकंदर का युद्ध बॉलीवुड से लेकर टेलीविजन तक पर काफी हिट रहा है. कई बार इन पर फिल्में बनी हैं और सीरियल में भी इनका जिक्र आ चुका है. अगर ऐतिहासिक तथ्यों पर यकीन करें तो पोरस का शासन काल 340 से 315 ईसा पूर्व तक माना जाता है. उनके राज्य का नाम पौरव था और यह चेनाब और झेलम नदी के किनारे स्थित था. जब सिकंदर विश्व विजय के लिए निकला तो भारत में पोरस ने उसको टक्कर थी. जानें सिकंदर और पोरस के युद्ध की ये पांच खास बातें:

स्वाभिमानी राजा
सिकंदर ने पोरस के पास अपना एक दूत भेजा था और उसका प्रभुत्व स्वीकार करने के लिए कहा था. लेकिन पोरस ने ऐसा करने से मना कर दिया था. पोरस ने सिकंदर को युद्ध के मैदान में मिलने की चुनौती दी थी.



झेलम की लड़ाई
दोनों के बीच जबरदस्त जंग हुई. सिकंदर की सेना विशाल थी तो पोरस भी कम ताकतवर नहीं था. लेकिन खराब मौसम की मार ने पोरस को काफी नुक्सान पहुंचाया और इस जंग में ताकतवर सिकंदर की जी हुई.

Porus में इस एक्ट्रेस का इंट्रोडक्शन सीन सुनकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

पोरस के साथ सिकंदर ने ऐसा किया था सलूक
पोरस से जंग जीतने के बाद सिकंदर ने पूछा था कि उनके साथ क्या सलूक किया जाए तो पोरस ने कहा थाः “वही जो एक राजा दूसरे राजा से करता है.” सिकंदर को पोरस की यह बात जम गई और उसने पोरस का साम्राज्य उसको लौटा दिया. इस तरह दो साम्राज्यों के बीच राजनैतिक संबंध कायम हो गए.



सिकंदर के जनरल ने किया था कत्ल
सिकंदर का 323 ईसा पूर्व में निधन हो गया था. कहा जाता है कि सिकंदर की मौत के बाद उसके एक जनरल यूडेमस ने 321 से 315 ईसा पूर्व के बीच पोरस की हत्या कर दी थी. 

टिप्पणियां
विदेशी शासक को रोकने के लिए पहली जंग
इतिहासकार मानते हैं कि उत्तर-पश्चिम से कई आक्रमणकारी भारत में आए, जिन्हें समय-समय पर रोकने की कोशिश भी की गई. लेकिन झेलम की लड़ाई भारतीय इतिहास में किसी विदेशी आक्रमणकारी को रोकने की पहली कोशिश थी. 

 ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement