NDTV Khabar

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: डॉक्टर हंसराज हाथी बने कवि कुमार आजाद का निधन, हार्ट अटैक बनी वजह

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah)' के सुपरहिट कैरेक्टर डॉ. हंसराज हाथी यानी कवि कुमार आजाद का निधन हो गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: डॉक्टर हंसराज हाथी बने कवि कुमार आजाद का निधन, हार्ट अटैक बनी वजह

तारक मेहता का उल्टा चश्मा के डॉक्टर हंसराज हाथी का निधन

खास बातें

  1. डॉक्टर हाथी का निधन
  2. हार्ट अटैक से हुई मौत
  3. कविताएं लिखने का भी था शौक
नई दिल्ली: 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah)' के सुपरहिट कैरेक्टर डॉ. हंसराज हाथी यानी कवि कुमार आजाद का निधन हो गया है. कॉमेडी सीरियल 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में डॉ. हंसराज हाथी गोकुलधाम सोसाइटी के ऐसे सदस्य थे, जिनसे हर कोई प्यार करता था, और वे दर्शकों समेत पूरी सोसाइटी के चहेते थे. 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah)' में कवि कुमार आजाद डॉ. हाथी के किरदार में थे, और वे हमेशा खाना खाने के दीवाने रहते थे. शो में वे डॉक्टर थे, लेकिन ओवरवेट डॉक्टर थे. उन्हें हर कोई बहुत प्यार करता था. कवि कुमार आजाद का निधन हार्ट अटैक की वजह से हुआ है, और जिस समय उन्हें दिल का दौरा पड़ा वे घर पर थे. 

'तारक मेहता के उल्टा चश्मा के डॉक्टर' हाथी के निधन पर भोजपुरी स्टार रवि किशन, निरहुआ और रानी चटर्जी का यूं छलका दर्द



शो से जुड़े सूत्रों ने बताया कि कवि कुमार आजाद का आज सुबह ही प्रोड्यूसर के पास फोन आया था, और उन्होंने कहा था कि उनकी तबियत ठीक नहीं है इसलिए वे आज शो पर नहीं आ पाएंगे. लेकिन थोड़ी देर बाद ये बुरी खबर आ गई. शो से जुड़े सूत्र बताते हैं कि वे तबियत खराब होने के बावजूद भी शो पर आते थे. वे शो से बहुत प्यार करते थे. 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' 10 साल पूरे करने जा रहा है, इसलिए आज सेट पर इसको लेकर एक मीटिंग भी थी. लेकिन उससे पहले ही ये बुरी खबर आ गई. 

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के डॉक्टर हाथी बने कवि कुमार आजाद की पूरी कहानी, असित मोदी की जुबानी

टिप्पणियां
कवि कुमार आजाद बॉलीवुड में भी हाथ आजमा चुके थे, और 'मेला (2000)' में नजर आए थे. इस फिल्म में उनके साथ आमिर खान भी थे. हालांकि कवि कुमार आजाद को असली पहचान 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' से मिली. कवि कुमार आजाद के नाम से ही जाहिर है कि वे कवि थे, और जब वे एक्टिंग में मशगूल नहीं होते तो कविताएं लिखा करते थे. शो में वे पूरी गोकुल धाम सोसाइटी के साथ बहुत ही मिलनसारिता के साथ पेश आते थे. ऑडियंस खासकर बच्चों में वे बहुत लोकप्रिय थे. 

  ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement