दुधवा टाइगर रिजर्व एक नवंबर से पर्यटकों के लिए फिर खुलेगा

कोविड-19 (Covid 19) महामारी के चलते पर्यटकों के लिए बंद दुधवा टाइगर रिजर्व (डीटीआर) (Dudhwa Tiger Reserve) इस बार 15 दिन पहले ही एक नवंबर से खुलेगा.

दुधवा टाइगर रिजर्व एक नवंबर से पर्यटकों के लिए फिर खुलेगा

दुधवा टाइगर रिजर्व एक नवंबर से पर्यटकों के लिए फिर खुलेगा

लखीमपुर खीरी:

कोविड-19 (Covid 19) महामारी के चलते पर्यटकों के लिए बंद दुधवा टाइगर रिजर्व (डीटीआर) (Dudhwa Tiger Reserve) इस बार 15 दिन पहले ही एक नवंबर से खुलेगा. विपरीत परिस्थियों में भी पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यह पहल की जा रही है. दुधवा टाइगर रिजर्व के निदेशक संजय कुमार पाठक ने पीटीआई-भाषा को यह जानकारी दी. उन्‍होंने बताया, कि एक नवंबर को दुधवा के द्वार पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे लेकिन कोविड-19 की सुरक्षा के चलते इसमें विशेष सावधानी बरती जाएगी और किसी भी तरह के उल्‍लंघन को गंभीरता से लिया जाएगा. आमतौर पर दुधवा टाइगर रिजर्व पर्यटकों के लिए 15 नवंबर से शुरू होकर 15 जून तक खुला रहता है. इस बार 15 दिन पहले ही इसे खोला जा रहा है.

यूपी : गांव के लोगों ने पकड़ा 8 फुट लंबा मगरमच्छ, छोड़ने के लिए मांगी 50,000 रु. की फिरौती

कोविड-19 के प्रकोप के बाद विपरीत परिस्थितियों में दुधवा टाइगर रिजर्व को पिछले 22 मार्च को पर्यटन के बीच सत्र में बंद करना पड़ा. दुधवा टाइगर रिजर्व के अधिकारी का कहना है कि इससे पार्क के राजस्‍व पर असर पड़ा लेकिन पर्यटकों की आवाजाही न होने से जंगली जानवरों को बिना किसी अवरोध के अपने क्षेत्रों में वापस आने में सहूलियत हुई. अधिकारी के मुताबिक प्रवेश द्वार पर पर्यटकों की थर्मल स्‍क्रीनिंग होगी और इसके बाद केवल उन पर्यटकों को परिसर में प्रवेश की इजाजत दी जाएगी, जिनको कोविड-19 संक्रमण के कोई लक्षण नहीं होंगे.

Newsbeep

दुधवा टाइगर रिजर्व में रात को घूम-घूमकर शराब की पार्टी करती हैं DM : IFS अफसर की शिकायत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कोविड-19 के प्रोटोकाल का पूरी तरह पालन होगा और 11 वर्ष से 65 वर्ष की आयु के लोगों को परिसर में प्रवेश मिलेगा. इस बार 10 वर्ष से कम उम्र के बच्‍चों और 65 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों, रोगियों और गर्भवती महिलाओं को प्रवेश नहीं दिया जाएगा. पाठक ने बताया, कि भ्रमण के दौरान सभी को मास्‍क लगाना होगा. पर्यटक, गाइड को हर समय मास्‍क लगाना होगा और अगर किसी ने इसका उल्‍लंघन किया तो आर्थिक दंड लगाया जाएगा. उन्‍होंने बताया, कि इस बार पर्यटकों को हाथी की सवारी करने की अनुमति नहीं रहेगी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)