NDTV Khabar

उत्तर प्रदेश में 1 करोड़ 31 लाख घरों में आज तक नहीं पहुंची बिजली, कैसे पूरी होगी पीएम मोदी की दी डेडलाइन

एनडीटीवी की टीम ने कई गांवों में जाकर जमीनी हकीकत जानने के की कोशिश की है. सोनभद्र के ही काचन गांव में 4 महीने पहले बिजली आई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर प्रदेश में 1 करोड़ 31 लाख घरों में आज तक नहीं पहुंची बिजली, कैसे पूरी होगी पीएम मोदी की दी डेडलाइन

देश के 3.31 करोड़ अंधेरे घरों में से 42 फीसदी उत्तर प्रदेश में हैं

लखनऊ: मोदी सरकार ने हाल ही में घोषणा की है कि सरकार ने देश के हर गांव को रौशन कर दिया है. लेकिन सरकार के लिये असली चुनौती गांव के हर एक घर में बिजली पहुंचाने की है. ये चुनौती कितनी बड़ी है इसका सबसे अंदाज़ा उत्तर प्रदेश में लगाया जा सकता है. देश के 3.31 करोड़ अंधेरे घरों में से 42 फीसदी इसी राज्य से आते हैं. यानी करीब एक करोड़ घरों को अभी तक बिजली नसीब नहीं हुई है. अफसोस की बात ये है कि जो सोनभद्र जिला थर्मल पावर का केंद्र है. यहां 8 बड़े बिजलीघर हैं और इस जिले से देश के अलग-अलग हिस्सों को बिजली मिलती है. लेकिन आपको जानकारी हैरानी होगी कि इस जिले में विद्युतीकरण बस 27 फीसदी ही है. प्रधानमंत्री मोदी की ओर से हुई 31 दिसंबर 2018 तक हर घर में बिजली पहुंचा देने की समय सीमा एक बड़ी चुनौती है.

एनडीटीवी की टीम ने कई गांवों में जाकर जमीनी हकीकत जानने के की कोशिश की है. सोनभद्र के ही काचन गांव में 4 महीने पहले बिजली आई है. इसी गांव के रहने वाले 35 साल के मुमता़ज़ हुसैन ने फौरन ये फ्रीजर ख़रीदा और कोल्ड ड्रिंक की दुकान खोल ली. इससे पहले उनके पास रोजी-रोटी कमाने का अच्छा साधन नहीं था. लेकिन उनका कहना है अब उनकी आय कुछ ठीक है. इसी तरह सोनभद्र के नागराज गांव में सबसे पहले जो लोग आए वो रिहंद डैम बनाने के दौरान से उजाड़े गए थे. रिहंद मेंकई बिजलीघर हैं लेकिन नागराज ने कभी बिजली नहीं देखी.  

टिप्पणियां
लखनऊ के करीब हरदोई जिले के पूरनखेड़ा गांव में पहली बार कोई सरकार बिजली लाने की कोशिश कर रही है. यहां की आबादी 800 से 900 लोगों की है. गांव के किनारे 61 साल के कादले के घर सरकार ने होली से पहले बिल्कुल नया मीटर मुफ़्त में लगाया.  हफ़्ते भर के भीतर बिजली देने का वादा भी किया लेकिन अब तक बिजली नहीं पहुंची है. लेकिन उनकी उम्मीद बनी हुई है. प्रधानमंत्री की दी गई समय सीमा के अंदर सरकार को हरदोई में 8 महीने में 2 लाख 40,000 घरों में बिजली पहुंचानी है. यानी हर रोज़ 1000 घरों में. 
 
वहीं यूपी की योगी सरकार का कहना है कि वो 8 महीने में एक करोड़ घरों को रोशन करने की चुनौती उठाने को तैयार है. सरकार के मुताबिक वो हर ज़िले में फ्री बिजली कैंप लगाकर न्यूनतम चार्च वाले पावर कनेक्शन दे रही है. सरकार का दावा है कि ज़िलावार बिजली लगाने के काम की हर रोज़ निगरानी हो रही है. लेकिन एक हकीकत यह भी है कि यूपी में 1 करोड़ 31 लाख घर हैं जहां बिजली नहीं पहुंची है. देश में बिना बिजली वाले जो 3.13 करोड़ घर हैं, उनमें 42 फीसदी अकेले यूपी के हैं. 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement