NDTV Khabar

दीपावली की पूर्व संध्या पर 12 हजार लीटर तेल से अयोध्या में जगमग होंगे 2.40 लाख दीये

दीपावली की पूर्व संध्या पर राम नगरी अयोध्या इस बार लाखों दीपों से जगमग होने वाली है. इस मौके पर होने वाले अयोध्या महोत्सव के भव्य आयोजन की तैयारी जोरों पर है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दीपावली की पूर्व संध्या पर 12 हजार लीटर तेल से अयोध्या में जगमग होंगे 2.40 लाख दीये

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. अयोध्या महोत्सव के भव्य आयोजन की तैयारी
  2. राम की पैड़ी व नया घाट पर जलाए जाएंगे दीये
  3. लखनऊ से आएंगी रुई की पांच लाख बत्तियां
लखनऊ: दीपावली की पूर्व संध्या पर राम नगरी अयोध्या इस बार लाखों दीपों से जगमग होने वाली है. इस मौके पर होने वाले अयोध्या महोत्सव के भव्य आयोजन की तैयारी जोरों पर है. दीयों को जलाने के लिए 12 हजार लीटर सरसों के तेल का इस्तेमाल होगा. इस तेल को फैजाबाद व आसपास के जिलों से जुटाया जा रहा है. वहीं, दीयों को जलाने के काम में आने वाली पांच लाख रुई की बत्ती लखनऊ से मंगाई गई हैं. 

यह भी पढ़ें : Diwali 2017: इस दीवाली यहां जलाएं दीए, मिलेगा शुभ फल

सरकारी तौर पर दीपावाली के मौके पर सरयू नदी स्थित राम की पैड़ी घाट पर 1.71 लाख दीये जलाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया जाएगा. लेकिन, अयोध्या और फैजाबाद के एनजीओ व धार्मिक संस्थाएं अयोध्या के नया घाट पर 69 हजार दीये जलाएंगे. इस तरह कुल दीयों की संख्या 2.40 लाख तक पहुंच जाएगी. इसके लिए अयोध्या में युद्धस्तर पर तैयारियां चल रही हैं. दीपक जलाने की जिम्मेदारी डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय को सौंपी गई है. इस आयोजन में विश्वविद्यालय के साथ ही उससे संबद्ध कई कॉलेजों  के छात्र व शिक्षक भी शामिल होंगे.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें : त्रेता युग की दिवाली को अयोध्या में ऐसे दोहराएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, जानें क्या है मामला
 
18 अक्टूबर की शाम 7 बजे कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित के नेतृत्व में दीप प्रज्ज्वलित किए जाएंगे. प्रो. दीक्षित ने बताया कि हर दीये में 50 ग्राम तेल डाला जाएगा. हर दीये में दो बत्ती लगाई जाएगी. बत्ती सामान्य से ज्यादा मोटी होगी और देर तक जलेगी. व्यवस्था देख रहे सरयू बाल सेवा समिति अयोध्या के आशीष मिश्र ने बताया कि तकरीबन 14 हजार लीटर सरसो व तिल के तेल की व्यवस्था की जा रही है. 

VIDEO: अयोध्या में मनेगी त्रेता युग की दीपावाली
राम की पैड़ी पर दीये जलाने के लिए व्यापक व्यवस्था की जा रही है. कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित ने बताया कि इसमें कुल ढाई हजार वालंटियर लगाए गए हैं, जो 18 अक्टूबर की शाम को दीप प्रज्ज्वलित करेंगे. उन्होंने बताया कि एक साथ इतनी भारी तादाद में दीप जलाने से कार्यक्रम विश्वभर में चर्चा का विषय बन जाएगा. साथ ही यह विश्व रिकॉर्ड बनाने का भी अवसर बनेगा. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement