NDTV Khabar

छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से कड़कनाथ मुर्गा पहुंचा उत्तर प्रदेश के बहराइच, कई बीमारियां ठीक करने में है सहायक

औषधीय गुण, सबसे कम फैट, चटखदार काले रंग, हमेशा याद रहने वाले लजीज स्वाद आदि के लिए पहचाना जाने वाले कड़कनाथ का मांस, चोंच, कलंगी, जुबान, टांगें, नाखून, चमड़ी सभी काले होते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से कड़कनाथ मुर्गा पहुंचा उत्तर प्रदेश के बहराइच, कई बीमारियां ठीक करने में है सहायक
बहराइच:

छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में तहलका मचाने के बाद अब कड़कनाथ प्रजाति के मुर्गे की बांग उत्तर प्रदेश के बहराइच में भी सुनाई देने लगी है. पशु चिकित्सा विभाग की मदद से बहराइच के एक प्रगतिशील किसान ने कड़कनाथ के चूज़े और तैयार मुर्गी-मुर्गा मंगवाए हैं. औषधीय गुण, सबसे कम फैट, चटखदार काले रंग, हमेशा याद रहने वाले लजीज स्वाद आदि के लिए पहचाना जाने वाले कड़कनाथ का मांस, चोंच, कलंगी, जुबान, टांगें, नाखून, चमड़ी सभी काले होते हैं. इसमें प्रोटिन की लगभग 25 प्रतिशत मात्रा पाई जाती है. वहीं फैट .07 पाया जाता है. यही वजह है कि इसे औषधीय गुणों वाला मुर्गा माना जाता है. हृदय व डायबिटीज रोगियों के लिए कड़कनाथ रामबाण का काम करता है.

टीम इंडिया को मिली 'कड़कनाथ मुर्गा' खाने की सलाह, फायदे भी गिनाए


टिप्पणियां

मध्यप्रदेश के आदिवासी इलाके झाबुआ से पशुपालन विभाग ने जरवल के किसान मोहम्मद गुलाम को कड़कनाथ के 300 चूजों और 50 तैयार मुर्गी-मुर्गा मंगवाकर दिए हैं. यह प्रजाति जितना मांसाहारी खाने वालों के लिए फायदेमंद है उतना ही इसका पालन करने वाले किसानों के लिए आर्थिक रूप से फायदेमंद है क्योंकि जहां पहले से पाले जा रहे पारंपरिक मुर्गे का मीट 120 रुपये से 150 रुपये किलो तक बिकता है वहीं कड़कनाथ का मीट 500 रुपये किलो से लेकर 1000 रुपये किलो तक बिकता है. कड़कनाथ मुर्गी का एक अंडा 50 रुपये तक आसानी से बिक जाता है. इसलिए इस प्रजाति की विशेष अहमियत है और इसके उत्तर प्रदेश के बहराइच पहुंच जाने से दूसरे किसानों का भी लाभ होगा क्योंकि अब इसके चूजों को भी बहराइच में ही पैदा कराने की तैयारी हो रही है.

8t88n2f4

बहराइच के मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी बलवन्त सिंह ने एनडीटीवी को बताया, 'कड़कनाथ पालन में प्रदेश के बरेली ज़िले के बाद बहराइच दूसरा जिला  है जो इस ओर अग्रसारित हो रहा है. यही वजह है कि बहराइच में चार किसानों ने पहल की है, उनका मानना है कि कड़कनाथ स्वास्थ्य की दृष्टि से अति उत्तम है और छोटा किसान भी कम पूंजी में कड़कनाथ पाल कर अच्छा मुनाफा कमा सकता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement