NDTV Khabar

आगरा : अखिलेश यादव ने शरद पूर्णिमा पर परिवार सहित किया ताज का दीदार

अखिलेश शरद पूर्णिमा के मौके पर ताजमहल को पूर्णचंद्र की रोशनी में देखने आये थे. उन्होंने कहा कि निस्संदेह ताजमहल हम सभी के लिए वास्तुकला का एक अदभुत नमूना है.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आगरा : अखिलेश यादव ने शरद पूर्णिमा पर परिवार सहित किया ताज का दीदार

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अखिलेश यादव ने ताजमहल का परिवार सहित किया दीदार.
  2. प्रदेश सरकार की ओर से पर्यटन स्थानों पर एक बुकलेट जारी किया गया था.
  3. इसमें ताजमहल को शामिल नहीं किया गया था,
आगरा: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शरद पूर्णिमा के मौके पर पूर्णचंद्र की दूधिया रोशनी में नहाये विश्व प्रसिद्ध ऐतिहासिक विरासत ताजमहल का परिवार सहित दीदार किया. अखिलेश शरद पूर्णिमा के मौके पर ताजमहल को पूर्णचंद्र की रोशनी में देखने आये थे. उन्होंने कहा कि निस्संदेह ताजमहल हम सभी के लिए वास्तुकला का एक अदभुत नमूना है. ताजमहल विरासत है और हमें हमारे इतिहास की याद दिलाता है. उन्होंने कहा कि जहां तक हम समाजवादियों का सवाल है, 'मैं यही कह सकता हूं कि ताजमहल बड़ी संख्या में लोगों को नौकरियां एवं रोजगार देता है. इससे कई लगों का कारोबार भी फलता फूलता है.'

गौरतलब है कि ताजमहल कुछ दिन से विवादों में है. उत्तर प्रदेश में टूरिस्ट बुकलेट से ताजमहल का नाम गायब होने के मुद्दे पर विपक्ष ने राज्य सरकार पर निशाना साधा. सपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री आजम खान ने तंज कसते हुए कहा कि अगर योगी सरकार ताजमहल को तुड़वाने की पहल करती है, तो वह इसका समर्थन करेंगे.

यह भी पढ़ें : आजम खान ने विवादित बयान के बाद खुद को बताया बीजेपी की 'आइटम गर्ल'

आजम ने कहा कि एक तो यह गुलामी की निशानी है. एक ज़माने में ताजमहल को गिराने की बात चली भी थी मगर इसे गिराने की बात करने वालों ने इसपर अब तक अमल नहीं किया. इससे पहले ताजमहल के विवाद पर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा था कि ताजमहल हमारी संस्कृति, धरोहर और प्राथमिकता है. रीता ने कहा कि ताजमहल विश्व धरोहर के साथ ही पर्यटन का केंद्र भी है. हमारी सरकार ने ताजमहल के सुधार के लिए 156 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं.

VIDEO : यूपी पर्यटन विभाग की किताब से गायब हुआ ताजमहल

सोमवार को प्रदेश सरकार की ओर से पर्यटन स्थानों पर एक बुकलेट जारी किया गया था. इसमें ताजमहल को शामिल नहीं किया गया था, जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखनाथ मंदिर को जगह दी गई है.

(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement