शिवपाल यादव और आजम खान को दरकिनार कर अखिलेश यादव ने इस MLA को बनाया नेता प्रतिपक्ष

शिवपाल यादव और आजम खान को दरकिनार कर अखिलेश यादव ने इस MLA को बनाया नेता प्रतिपक्ष

अखिलेश यादव ने रामगोविन्द को विधायक दल का नेता मनोनीत किया है.

खास बातें

  • बलिया की बांसडीह सीट से विधायक हैं रामगोविन्द चौधरी
  • 70 वर्षीय रामगोविन्द अखिलेश यादव सरकार में थे कैबिनेट मंत्री
  • सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रामगोविंद के नाम पर लगाई मुहर
लखनऊ:

समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ विधायक राम गोविन्द चौधरी उत्तर प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता होंगे. उन्हें सोमवार को आजम खां और शिवपाल यादव जैसे नेताओं पर वरीयता देते हुए सपा विधायक दल का नेता चुना गया. सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने यहां बताया कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रामगोविन्द को विधायक दल का नेता मनोनीत किया है. चूंकि सपा सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है, लिहाजा रामगोविन्द विपक्ष के भी नेता होंगे. बलिया की बांसडीह सीट से विधायक पूर्व कैबिनेट मंत्री रामगोविन्द को अखिलेश का करीबी माना जाता है. उन्हें आजम खां और पूर्व में नेता प्रतिपक्ष रह चुके शिवपाल यादव पर तरजीह देते हुए विधायक दल का नेता चुना गया. आठ बार के विधायक रामगोविन्द वर्ष 1977 में पहली बार तत्कालीन चिलकहर सीट से जनता पार्टी के टिकट पर विधायक चुने गये थे.

छात्र नेता के रूप में अपने राजनीतिक सफर की शुरआत करने वाले करीब 70 वर्षीय रामगोविन्द राज्य की पूर्ववर्ती अखिलेश यादव सरकार में बेसिक शिक्षा मंत्री तथा बाल विकास एवं पुष्टाहार मंत्री रहे. सपा के मौजूदा विधायकों में वह सबसे वरिष्ठ हैं.

हाल में सम्पन्न विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने वाली सपा को मात्र 47 सीटें हासिल हुई थीं, इसके बावजूद वह मुख्य विपक्षी दल बनने में कामयाब रही. उसकी सहयोगी कांग्रेस को महज सात सीटें ही हासिल हुईं.

चौधरी ने यह भी बताया कि मंगलवार को सपा विधानमण्डल दल की बैठक होगी, जिसकी अध्यक्षता पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव करेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आगामी 29 मार्च को सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव द्वारा विधायकों की बैठक बुलाये जाने के बारे में पूछने पर चौधरी ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)