NDTV Khabar

मुद्दों से भटकाने की सबसे बड़ी ताकत बीजेपी के पास: अखिलेश यादव

उत्‍तर-प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि जिस तरह की राजनीति चल रही है मैं नहीं समझता हूं कि देश आगे बढ़ सकेगा. उन्‍होंने कहा कि जाति और धर्म की बात कर सिर्फ सत्‍ता पर बने रहना चाहते हैं.

1.8K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुद्दों से भटकाने की सबसे बड़ी ताकत बीजेपी के पास: अखिलेश यादव

अखिलेश ने कहा, मुद्दों से भटकाने की सबसे बड़ी ताकत बीजेपी के पास

खास बातें

  1. जाति और धर्म की बात कर सिर्फ सत्‍ता पर बने रहना चाहते हैं: अखिलेश
  2. 2019 में सत्‍ता का रास्‍ता यूपी से ही निकलेगा: अखिलेश
  3. जिस तरह की राजनीति चल रही है मैं नहीं समझता हूं कि देश आगे बढ़ सकेगा:यादव
लखनऊ: उत्‍तर-प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि जिस तरह की राजनीति चल रही है मैं नहीं समझता हूं कि देश आगे बढ़ सकेगा. उन्‍होंने कहा कि जाति और धर्म की बात कर सिर्फ सत्‍ता पर बने रहना चाहते हैं. इतना ही नहीं 2019 में रास्‍ता यूपी से ही निकलेगा. 

अखिलेश यादव ने कहा, भाजपा को नोटबंदी, जीएसटी का असर गुजरात चुनाव के नतीजों में दिखेगा

अखिलेश ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि मुद्दों से भटकाने की सबसे बड़ी ताकत बीजेपी के पास है. अखिलेश ने कहा कि सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने राजनीतिक लोगों पर 20 हजार से ज्‍यादा मुकदमें वापस लेने का ऐलान किया है क्‍योंकि उनपर भी गंभीर धारा वाले मुकदमें हैं और डिप्‍टी सीएम पर भी मुकदमें हैं. उन्‍होंने बसपा के नेता आर के चौधरी को सपा में शामिल करवाया. चौधरी तीन बार विधायक और एक बार बसपा सरकार में मंत्री रह चुके हैं. आर के चौधरी काशी राम के करीब थे. चौधरी के अलावा आरएलडी कोटे से पूर्व मंत्री भी सपा में शामिल हुए. 

इससे पहले अखिलेश यादव ने गुजरात चुनाव के नतीजों के बाद कहा था कि चुनाव परिणाम से साफ हो गया है कि विकास का ‘गुजरात माडल’ महज छलावा है और ये नतीजे इस बात का उदाहरण भी हैं कि कैसे जनता को राजनीति से कोई वास्ता ना रखने वाले क्रिया-कलापों से बहकाने का प्रयास किया जा सकता है.

अखिलेश ने कहा था कि भाजपा गुजरात चुनाव में 150 सीटों पर जीत का दावा कर रही थी जबकि परिणाम उसके उलट रहे. इस चुनाव परिणाम ने यह स्पष्ट कर दिया कि गुजरात विकास माडल एक छलावा था. यह परिणाम भविष्य की राजनीति के लिये एक संकेत भी है कि विकास ना करने वालों को जनता पसंद नहीं करती है.

अखिलेश यादव बोले- सपा धर्मनिरपेक्षता के लिए लड़ने वाले दलों का समर्थन करेगी

हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि गुजरात चुनाव के नतीजे देश की जनता के सामने एक उदाहरण है कि कैसे जनता को राजनीति से कोई वास्ता ना रखने वाले क्रिया-कलापों से बहकाने का प्रयास किया जा सकता है और जिनकी मदद से किसी भी प्रकार सत्ता पर काबिज हो सके.

अखिलेश ने कहा था कि गुजरात में करीब 22 वर्ष तक भाजपा के सत्ता में रहने के बाद भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित पूरी भाजपा वहां डटी रही. सत्ता एवं सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल करने के साथ-साथ चुनाव को प्रभावित करने के कई हथकंडे अपनाये गये.

VIDEO:मुलायम ने अपने बर्थडे पर बेटे अखिलेश को मारा था ताना


टिप्पणियां
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि इस चुनाव से भाजपा के जातिवादी और साम्प्रदायिक राजनीति का सच जनता के सामने आ गया हैं. गुजरात चुनाव प्रचार में भाजपा नेताओं ने असंसदीय बयानों और बड़बोलेपन से अपनी राजनैतिक साख को गिरा दिया हैं.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement