Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांवड़ यात्रा की वजह से गाजियाबाद के सभी स्कूल-कॉलेज 26 से 30 जुलाई तक बंद रहेंगे

कांवड़ यात्रा की वजह से गाजियाबाद के सभी स्कूल और कॉलेजों में 26 से 30 जुलाई तक अवकाश घोषित किया गया है. 

कांवड़ यात्रा की वजह से गाजियाबाद के सभी स्कूल-कॉलेज 26 से 30 जुलाई तक बंद रहेंगे

कांवड़ यात्रा की वजह से गाजियाबाद के सभी स्कूल और कॉलज 26 से 30 जुलाई तक बंद रहेंगे.

गाजियाबाद:

वार्षिक कांवड़ यात्रा शुरू हो गई है.  इसको देखते हुए कांवड़ियों द्वारा प्रयुक्त किये जाने वाले मार्गों पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. वहीं, कांवड़ यात्रा की वजह से गाजियाबाद के सभी स्कूल और कॉलेजों में 26 से 30 जुलाई तक अवकाश घोषित किया गया है. जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि श्रावण शिवरात्रि 30 जुलाई को होगी. लिखित आदेश में कहा गया है कि पिछले वर्ष की तरह इस बार भी श्रद्धालुओं और कांवड़ियों के भारी संख्या में आने का अनुमान है. आदेश में कहा गया है कि इसलिए सभी प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल, इनमें सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड से संबद्ध स्कूल भी शामिल हैं.  

कांवड़ मेला शुरू, तीन करोड़ कांवडियों के लिए हरिद्वार में ऐसे किए गए सुरक्षा इंतजाम

इसके अलावा महाविद्यालय, इंजीनियरिंग, प्रबंधन और मेडिकल कॉलेज 26 से 30 जुलाई तक बंद रहेंगे. वार्षिक कांवड़ यात्रा के मद्देनजर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों जैसे गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर और मेरठ में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई है. आपको बता दें कि कांवडिए हर साल सावन के महीने में हरिद्वार के मुख्य घाट हर की पौडी तथा अन्य घाटों से पव़ित्र गंगा जल लेने आते हैं और उन्हें अपने गांव या घर के पास शिवालयों में अर्पित करते हैं. बीते दिनों उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक, कानून और व्यवस्था, अशोक कुमार ने बताया था कि कांवड़ियों द्वारा प्रयुक्त किए जाने वाले मार्गों पर करीब दस हजार पुलिस और अर्धसैनिक बल तैनात किये गए हैं. इसके अलावा, बम निरोधी तथा आतंकवादी निरोधी दस्ते की भी तैनाती की गई है. 

सावन का महीना शुरू, कांवड़ लेकर निकले शिव भक्‍त, बोल बम से गूंज उठा माहौल

उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र में चयनित स्थानों पर कडी निगाह रखने के लिये सीसीटीवी तथा ड्रोन कैमरे भी लगाये गए हैं. कुमार ने बताया कि संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए मेले के दौरान संवेदनशील स्थानों पर सादे कपडों में भी पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे. बारह अगस्त को संपन्न होने वाले कांवड़ मेले के दौरान इस साल तीन करोड़ कांवडियों के आने की संभावना है.