मायावती ने किसानों के ऊपर लाठीचार्ज को लेकर BJP सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात...

मायावती ने दिल्ली में किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज की निंदा करते हुए कहा कि यह भाजपा सरकार की निरंकुशता की पराकाष्ठा है, जिसका खामियाजा भुगतने के लिए उसे तैयार रहना चाहिए.

मायावती ने किसानों के ऊपर लाठीचार्ज को लेकर BJP सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात...

बसपा प्रमुख मायावती. (फाइल फोटो)

लखनऊ:

बसपा सुप्रीमो मायावती ने दिल्ली में किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज की निंदा करते हुए कहा कि यह भाजपा सरकार की निरंकुशता की पराकाष्ठा है, जिसका खामियाजा भुगतने के लिए उसे तैयार रहना चाहिए. मायावती ने कहा कि किसानों की आय दोगुना कर उनके अच्छे दिन लाने का वादा करने वाली भाजपा सरकार निहत्थे किसानों पर पुलिस से लाठियां चलवा रही हैं और उनपर आंसू गैस के गोले दगवा कर पुलिसिया जुल्म कर रही है.

यह भी पढ़ें : किसानों पर लाठीचार्ज : कांग्रेस बोली- दिल्ली सल्तनत का बादशाह सत्ता के नशे में, पढ़ें विपक्ष के 15 बड़े हमले

उन्होंने कहा, 'वैसे तो भाजपा की केंद्र व राज्य सरकारों की गरीब व किसान-विरोधी गलत नीतियों से समाज का हर वर्ग बहुत अधिक दुःखी व पीड़ित है, लेकिन किसान वर्ग के लोग इस सरकार में कुछ ज्यादा ही संकट झेल रहे हैं. भाजपा की सरकारों ने उनकी समस्याओं का अगर सही समाधान किया होता तो यूपी, पंजाब और हरियाणा के किसानों को आज दिल्ली में पुलिस की लाठी का शिकार होकर मुसीबत व ज़िल्लत नहीं झेलनी पड़ती.'

यह भी पढ़ें : किसानों को गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आश्वासन पर भरोसा नहीं, टिकैत बोले- जारी रहेगा प्रदर्शन

मायावती ने कहा कि इससे पहले भी मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में किसानों पर पुलिस बर्बरता व ज्यादती की घटनाएं समाज को उद्वेलित कर चुकी हैं. इतना ही नहीं बल्कि भाजपा सरकारों द्वारा किसानों की कर्ज माफी की घोषणा भी इनके अन्य वादों व घोषणाओं की तरह हवा-हवाई ही साबित हुई है.

VIDEO : फसल सोना, किसान के माथे रोना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उधर, विपक्षी दलों ने राष्ट्रीय राजधानी की तरफ मार्च कर रहे हजारों किसानों के खिलाफ मोदी सरकार पर 'बर्बर पुलिस कार्रवाई' करने का आरोप लगाया. कांग्रेस ने कटाक्ष किया कि 'दिल्ली सल्तनत का बादशाह सत्ता के नशे में है.' विपक्ष ने केंद्र सरकार पर 'किसान विरोधी' होने का आरोप लगाते हुए मांग की कि किसानों को शांतिपूर्वक अपनी शिकायतों को रखने के लिए दिल्ली में प्रवेश की इजाजत दी जाए. वहीं सरकार किसानों को अपना प्रदर्शन खत्म करने के लिये मनाने के तरीके तलाशने में जुटी दिखी. गौरतलब है कि गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने किसान नेताओं से बात की है और उसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री भी राजनाथ सिंह का संदेश लेकर किसानों के पास गए. भारतीय किसान यूनियन की ओर से कहा गया है कि  सरकार का किसानों के बड़े मुद्दे पर रुख साफ नहीं है और उसकी ओर से आश्वासन पर भी विश्वास नहीं है इसलिए प्रदर्शन जारी रहेगा. 

(इनपुट : भाषा)