NDTV Khabar

दशहरे की छुट्टियों के बाद आज फिर खुला BHU, सड़कों पर दिखी रौनक

छात्राएं अपने घरों से वापस लौट आई हैं. बीएचयू में हुए लाठीचार्ज और उसके बाद हुए हंगामे की जांच क्राइम ब्रांच कर रही है, कई छात्रों से इसे लेकर पूछताछ भी हुई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दशहरे की छुट्टियों के बाद आज फिर खुला BHU, सड़कों पर दिखी रौनक

बीएचयू आज छुट्टी के बाद फिर खुला

खास बातें

  1. 23 अगस्त को बवाल के बाद जल्द कर दी गई थी छुट्टी
  2. 25 अगस्त से बंद थी यूनिवर्सिटी
  3. यूनिवर्सिटी की सड़कों पर आज रौनक दिखी
बनारस: दशहरे की छुट्टियों के बाद बनारस हिंदू विश्वविद्यालय आज फिर खुल गया है. 23 अगस्त को बीएचयू में मचे बवाल के बाद दशहरा की छुट्टियां जल्द कर दी गई थीं, यूनिवर्सिटी 25 सितंबर से बंद थी. आज सुबह यूनिवर्सिटी की सड़कों पर रौनक दिखी. छात्राएं अपने घरों से वापस लौट आई हैं. बीएचयू में हुए लाठीचार्ज और उसके बाद हुए हंगामे की जांच क्राइम ब्रांच कर रही है, कई छात्रों से इसे लेकर पूछताछ भी हुई है.

पूजा और लाठीचार्ज के बीच एक देवी, एक मनुष्य और एक शरीर

इससे पहले छेड़छाड़ की कथित घटना के खिलाफ पिछले महीने प्रदर्शनकारी विद्यार्थियों से निपटने के तरीकों को लेकर आलोचना का सामना कर रहे काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के कुलपति गिरीश चंद्र त्रिपाठी निजी कारणों का हवाला देते हुए ‘अनश्चितकालीन छुट्टी’ पर चले गए. बीएचयू के अधिकारियों ने बताया कि त्रिपाठी‘अनिश्चितकालीन अवकाश’ पर चले गए हैं, हालांकि उनका कार्यकाल 30 नवंबर तक है.

सीएम योगी बोले, सरकार को पहले से ही थी BHU में गड़बड़ी की आशंका

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर त्रिपाठी को साल 2014 में तीन साल के कार्यकाल के लिए बीएचयू का कुलपति नियुक्त किया गया था. गौरतलब है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय सूत्रों ने संकेत दिया था कि कथित छेड़छाड़ की एक घटना के बाद बीएचयू के छात्र - छात्राओं के प्रदर्शन करने सहित इस पूरे मामले से निपटने के उनके तरीके को लेकर केंद्र सरकार खुश नहीं है.

टिप्पणियां
वहीं, मंत्रालय अधिकारियों ने कहा है कि मंत्रालय ने कुलपति (वीसी) को छुट्टी पर जाने को नहीं कहा है और यह एक ‘निजी फैसला’ है. बीएचयू वीसी ने पिछले हफ्ते पीटीआई से कहा था, यदि मंत्रालय ने उनसे छुट्टी पर जाने को कहा तो वह इस्तीफा दे देंगे क्योंकि यह उनका अपमान होगा. हालांकि, त्रिपाठी को किए गए फोन कॉल और भेजे गए संदेश का कोई जवाब नहीं मिल पाया है.

नियमों के मुताबिक- यदि कुलपति छुट्टी पर जाते हैं तो रेक्टर विश्वविद्यालय के प्रमुख के तौर पर काम करेंगे, जबकि रेक्टर की अनुपस्थिति में विवि के कुलसचिव (रजिस्ट्रार) वीसी की भूमिका निभाएंगे. त्रिपाठी के छुट्टी पर रहने तक उनकी भूमिका निभाने वाले व्यक्ति पर एचआरडी मंत्रालय कोई फैसला करेगा. मंत्रालय ने उनके उत्तराधिकारी के लिए आवेदन मांगने वाला एक विज्ञापन पहले ही जारी कर दिया है.
पिछले महीने एक विरोध प्रदर्शन पर पुलिस लाठीचार्ज में कई विद्यार्थी घायल हो गए थे. घायलों में दो पत्रकार भी शामिल थे. छात्र छात्राएं बीएचयू में छेड़छाड़ की एक कथित घटना को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। बीएचयू देश के 43 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में एक है. बीएचयू के चीफ प्रोक्टर ओएन सिंह ने विवि परिसर में हुई हिंसा की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया था. (इनपुट्स: IANS से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement