NDTV Khabar

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कर्मचारियों के मनमाने समय पर आवाजाही पर कसी नकेल, अब बायोमेट्रिक हाजिरी

232 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कर्मचारियों के मनमाने समय पर आवाजाही पर कसी नकेल, अब बायोमेट्रिक हाजिरी

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद से योगी आदित्यनाथ लगातार फैसले ले रहे हैं.

खास बातें

  1. सरकारी कर्मचारियों के समय पर ऑफिस में मौजूदगी के लिए प्रयास
  2. यूपी के सरकारी दफ्तरों में हाजिरी के लिए लगेंगे बायोमेट्रिक मशीन
  3. सीएम योगी बोले, लखनऊ के सचिवालय की सुरक्षा संसद भवन की तर्ज पर हो
लखनऊ: उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के साथ ही लगातार एक्शन में दिख रहे योगी आदित्यनाथ ने सभी सरकारी दफ्तरों में कर्मचारियों की हाजिरी के लिए बायोमेट्रिक मशीन लगाने का आदेश दिए हैं. राज्य के सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों और अधिकारियों के देरी से पहुंचने की शिकायत के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह फैसला लिया है. लखनऊ स्थित शास्त्री भवन के सभागार में अपने विभागों से संबंधित राज्यमंत्रियों, प्रमुख सचिव और सचिवों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान सीएम योगी ने कहा कि हमें हर हाल में सरकारी दफ्तरों की कार्यपद्धति और रखरखाव को बेहतर करना है. उन्होंने कहा कि लगातार शिकायतें मिलती हैं कि सरकारी कर्मचारी रजिस्टर में हाजिरी लगाकर चले जाते हैं. या दिन में किसी भी वक्त आते हैं तो रजिस्टर में हाजिरी लगा देते हैं. इन्हें खत्म करने के लिए हाजिरी के लिए बायोमेट्रिक मशीन लगाए जाएं. साथ ही उन्होंने सचिवालय में प्रवेश के लिए अनावश्यक और गैर जरूरी निर्गत किए गए प्रवेश पत्रों को निरस्त करने की स्पष्ट हिदायत दी है. 

बैठक में सीएम योगी ने राजकीय विभागों में कामचलाऊ व्यवस्था को तत्काल बंद करने के साथ ही पारदर्शी एवं भ्रष्टाचार मुक्त कार्य संस्कृति अपनाने के निर्देश दिए हैं. 

संसद की तर्ज पर हो लखनऊ सचिवालय की सुरक्षा

सीएम योगी ने लखनऊ सचिवालय में लोगों की बेधड़क आवाजाही रोकने की बात कही. उन्होंने कहा कि सचिवालय की सुरक्षा संसद भवन की तर्ज पर सुनिश्चित की जाए. योगी ने कांशीराम आवास योजना के अधूरे आवासों को पूरा करने और प्राथमिकता के आधार आवासहीनो को आवंटित करने के लिए कार्ययोजना तैयार करने को कहा. मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि जो भी शिकायतें और समस्याएं आती हैं, उनका जल्द निवारण किया जाए.

तेजाब पीड़िता को तत्काल मदद की जाए

बैठक के बाद राज्य सरकार में मंत्री स्वाती सिंह ने कहा कि अब राज्य में तेजाब और रेप पीड़िताओं की तत्काल मदद की जाएगी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने राज्य में तेजाब कांड और रेप पीड़िताओं की सूची मांगी है. साथ ही आदेश दिया है कि ऐसे में मामलों में पीड़िता की मदद करने में मुकदमा आदि की सरकारी प्रक्रियाओं का इंतजार नहीं किया जाए. तत्काल उपचार का इंतजाम किया जाए और आरोपी की गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए.

रेप पीड़िता से मिले सीएम योगी

बैठक से पहले मुख्यमंत्री आदित्यनाथ लखनऊ के केजीएमयू अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर पहुंचे. यहां उन्होंने रेप पीड़िता से मुलाकात कर उसके पति को एक लाख रुपए की तत्काल सहायता राशि दी. आरोप है कि गैंगरेप पीड़िता को चलती ट्रेन में तेजाब पिलाया गया था. मुख्यमंत्री ने  पुलिस और रेलवे के आला अफसरों को फटकार लगाई और कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement