NDTV Khabar

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी समेत पांच मंत्रियों ने भरा विधान परिषद के लिए नामांकन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को विधान परिषद उपचुनाव के लिए अपने नामांकन पत्र दाखिल कर दिए.

158 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी समेत पांच मंत्रियों ने भरा विधान परिषद के लिए नामांकन

विधान परिषद के लिए 15 सितंबर को मतदान होगा, मतों की गिनती उसी दिन शाम पांच बजे होगी

खास बातें

  1. सपा और बसपा सदस्यों के इस्तीफे से खाली हुई पांच सीटें
  2. इस्तीफे के बाद विधायकों ने थामा बीजेपी का दामन
  3. मुख्यमंत्री समेत 5 मंत्री नहीं हैं राज्य विधानसभा के सदस्य
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को विधान परिषद उपचुनाव के लिए अपने नामांकन पत्र दाखिल कर दिए. उनके साथ ही उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य ने भी पांच सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए नामांकन दाखिल किए. उत्तर प्रदेश के दो अन्य मंत्रियों स्वतंत्र देव सिंह और मोहसिन रजा ने भी नामांकन पत्र दाखिल किए. 

नामांकन दाखिल करते समय राज्य विधानसभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय, राज्य सरकार के वित्तमंत्री राजेश अग्रवाल और अन्य मंत्रियों सहित भाजपा के बड़े नेता मौजूद थे. 

यह भी पढ़ें: यूपी में BJP सरकार का संकट खत्म, योगी आदित्यनाथ समेत 5 मंत्रियों के MLC बनने का रास्ता साफ

यह उपचुनाव समाजवादी पार्टी के चार सदस्यों (एमएलसी) बुक्कल नवाब, यशवंत सिंह, सरोजिनी अग्रवाल और अशोक बाजपेई  और बसपा के एक सदस्य जयवीर सिंह के विधान परिषद से इस्तीफे के कारण हो रहा है. भाजपा के पांचों उम्मीदवार अभी राज्य विधानमंडल के किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं. मंत्री पद की शपथ लेने के बाद इन सभी को छह महीने के भीतर यानी 19 सितंबर तक किसी न किसी सदन का सदस्य बनना अनिवार्य है. 

बसपा के विधान परिषद सदस्य के इस्तीफे के बाद खाली हुई पांचवीं सीट के लिए चुनावी कार्यक्रम जारी कर चुनाव आयोग ने भाजपा की समस्या सुलझा दी है. नवाब और सिंह का कार्यकाल 2022 में खत्म होना था, जबकि अग्रवाल और बाजपेई का कार्यकाल 2021 में. लेकिन इन सभी ने अचानक इसी महीने इस्तीफा दे दिया. अग्रवाल, बाजपेई और नवाब ने इस्तीफे के बाद भाजपा का दामन थाम लिया है. 

उपचुनाव की अधिसूचना 29 अगस्त को जारी की गई थी और पांच सितंबर को नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख है. नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख आठ सिंतबर है. चुनाव आयोग ने कहा है कि मतदान 15 सितंबर सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक होगा. मतों की गिनती उसी दिन शाम पांच बजे होगी. चुनावी प्रक्रिया 18 सितंबर तक पूरी हो जाएगी. 

VIDEO: बच्चों की हत्यारी है यूपी की योगी सरकार : राज बब्बर
मुख्यमंत्री योगी उच्च सदन में जाने का निर्णय लेकर अखिलेश और मायावती की सूची में शामिल हो गए हैं. ये दोनों नेता भी विधान परिषद के सदस्य थे. योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से लोकसभा सांसद हैं और उन्होंने 19 मार्च को उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के चुने जाने के बाद मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले मौर्य फूलपुर से लोकसभा सांसद हैं और शर्मा लखनऊ के मेयर रह चुके हैं. आदित्यनाथ और मौर्य दोनों ने अपनी-अपनी लोकसभा सीटों से इस्तीफा नहीं दिया है.

(इनपुट आईएएनएस से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement