'प्रधानमंत्री आवास योजना' के तहत अयोध्या में भगवान राम को भी मिले घर, BJP सांसद ने पत्र लिख की मांग

वैसे तो 'प्रधानमंत्री आवास योजना' के तहत गरीबों को घर मिलने का प्रावधान है, मगर उत्तर प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी के सांसद ने टेंट में विराजमान रामलला के लिए भी प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर दिए जाने की मांग की है.

'प्रधानमंत्री आवास योजना' के तहत अयोध्या में भगवान राम को भी मिले घर, BJP सांसद ने पत्र लिख की मांग

हरि नारायण राजभर ने की भगवान राम के लिए घर की मांग

खास बातें

  • बीजेपी सांसद हरि नारायण ने रामलला के लिए घर की मांग की.
  • अयोध्या के डीएम को चिट्ठी लिख की यह मांग.
  • प्रधाानमंत्री आवास योजना के तहत घर की मांग की है.
नई दिल्ली:

वैसे तो 'प्रधानमंत्री आवास योजना' के तहत गरीबों को घर मिलने का प्रावधान है, मगर उत्तर प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी के सांसद ने टेंट में विराजमान रामलला के लिए भी प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर दिए जाने की मांग की है. बीजेपी के सांसद हरि नारायण राजभर ने अयोध्या के जिला अधिकारी को एक पत्र लिख अयोध्या में टेंट में विराजमान रामलला के लिए एक घर की मांग की है. हरि नारायण की दलील है कि रामलला का जन्म सदियों पहले यहां हुआ था, जहां वह विराजमान है. इसलिए उनके लिए एक छत की व्यवस्था की जाए. 

Flashback 2018: जब मूर्ति निर्माण और शहरों के नाम बदलकर विवादों मे घिरी सरकार

उत्तर प्रदेश के घोसी से बीजेपी सांसद हरि नारायण राजभर ने इसके लिए अयोध्या के डीएम को एक पत्र लिखा है और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भगवान राम के लिए एक घर की मांग की है. क्योंकि वह टेंट में रह रहे हैं. इस पत्र में उन्होंने मांग की है कि उसी जगह भगवान राम को घर उपलब्ध कराई जाए, जहां वह विराजमान हैं. 

2kgo6ea8अयोध्या के जिला अधिकारी को लिखी गई चिट्ठी की प्रतिलिपी

28 दिसंबर 2018 को सांसद राजभर ने अयोध्या के जिला अधिकारी को पत्र लिखा. इस पत्र में उन्होंने लिखा है कि ' टेंट में विराजमान रामलाल का पूजा पाठ और दर्शन हो रहा है. जहां रामलला इस कड़ाके की सर्दी, गर्मी और बरसात में केवल टेंट रूपी मंदिर में विराजमान हैं. उनके ऊपर कोई छत नहीं है. जबकि वर्तमान में भारत सरकार आवास एवं छतविहिनों को आवास उपलब्ध कराने को कृत संकल्प है कि किसी भी परिस्थिति में कोई भी आवास विहिन इससे वंचित न रह जाए.'

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट में 4 जनवरी को होगी सुनवाई

Newsbeep

बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है और यथास्थिति बनाए रखने के भी निर्देश दिये गए हैं. वहीं, आरएसएस राम मंदिर निर्माण को लेकर संसद में अध्यादेश लाए जाने की मांग कर रही है और जल्द से जल्द मंदिर निर्माण की वकालत भी .

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: अयोध्या: मर्म कोई नहीं जाना