कैराना से SP विधायक का VIDEO वायरल, BJP समर्थक दुकानदारों से सामान न खरीदने की अपील की....

उत्तर प्रदेश के कैराना (शामली) से समाजवादी पार्टी (SP) के विधायक का एक वीडियो वायरल हुआ है. वीडियो में कथित तौर पर वह अपने विधानसभा क्षेत्र में लोगों से कह रहे हैं कि भाजपा समर्थक दुकानदारों से सामान न खरीदें.

कैराना से SP विधायक का VIDEO वायरल, BJP समर्थक दुकानदारों से सामान न खरीदने की अपील की....

यूपी के कैराना से सपा विधायक नाहिद हसन.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के कैराना (शामली) से समाजवादी पार्टी (SP) के विधायक का एक वीडियो वायरल हुआ है. वीडियो में कथित तौर पर वह अपने विधानसभा क्षेत्र में लोगों से कह रहे हैं कि भाजपा समर्थक दुकानदारों से सामान न खरीदें. वह यह भी कह रहे हैं कि उन लोगों के सामान खरीदने से ही भाजपा वालों की दुकान में सामान बिकता है और उनका घर चलता है. सपा विधायक नाहिद हसन सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में कथित तौर पर कह रहे हैं कि 'मेरी आप सभी से यह अपील है. सभी कैराना और आसपास के गांव के लोग, जो यहां से सामान खरीदते हैं, उनसे हाथ जोड़कर अपील है कि भाजपा के जितने भी लोग बाजार में हैं इनसे सामान लेना बंद कर दें. दस दिन-एक महीना तक चाहे पानीपत से जाकर सामान ले लो. थोड़े दिन कष्ट उठा लो. इधर-उधर से सामान ले लो. बीजेपी के लोगों की तबीयत में सुधार आ जाएगा. इन्हें पता चल जाएगा. हम सबके लिए यही बेहतर है. हम सामान खरीदते हैं तो इनका घर चलता है.'

देखें VIDEO

सपा विधायक के इस वीडियो पर उत्तर प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता चंद्र मोहन ने कहा, 'सपा विधायक का यह बयान घृणित है और ऐसे बयान की कोई अपेक्षा नहीं कर सकता जो समाज को बांटने का काम करता है. इस तरह का बयान समाजवादी नेताओं की मानसिकता को दर्शाता है. इस बयान से साफ होता है कि सपा नेता पश्चिमी यूपी का माहौल खराब करना चाहते हैं.' उन्होंने कहा कि क्या व्यापारी किसी पार्टी के होते हैं, व्यापारी व्यापारी होते हैं. इस तरह के बयान समाज के लिए ठीक नही हैं और गंदी राजनीति का एक हिस्सा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस बारे में जब सपा विधायक नाहिद हसन से बात की तो उन्होंने इस बात को स्वीकारा कि यह वीडियो उनका है और यह उनकी निजी राय है. उन्होंने कहा, 'जो छोटे दुकानदार (हिन्दू मुस्लिम दोनों) हैं, वे भाजपा समर्थक दुकानदारों से प्रताड़ित हैं, क्योंकि जो बड़े दुकानदार हैं वे छोटे दुकानदारों को उनके परंपरागत बाजार से हटाना चाहते हैं. यहां पर हमारी (मुस्लिमों की) संख्या ज्यादा है और यह हमसे पैसा कमा रहे हैं.'

(इनपुट: भाषा)