NDTV Khabar

मैं अगले 20-22 सालों तक पार्टी की मुखिया रहूंगी, तब तक कोई और सपना न देखे : मायावती

बसपा अध्यक्ष लखनऊ में पार्टी के प्रदेश कार्यालय में शनिवार को आयोजित पार्टी की अखिल भारतीय बैठक को संबोधित कर रही थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मैं अगले 20-22 सालों तक पार्टी की मुखिया रहूंगी, तब तक कोई और सपना न देखे : मायावती

बीएस सुप्रीम ने पार्टी में संगठन स्तर पर भी कई फैसले लिये हैं.

खास बातें

  1. मायावती ने संगठन स्तर पर किये कई बदलाव
  2. पहली बार बनाये गये नेशनल कोऑर्डिनेटर
  3. पार्टी पदाधिकारियों को भी सुनाई दो टूक
लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती  ने कहा है कि पार्टी किसी भी राज्य में और किसी भी चुनाव में किसी पार्टी के साथ केवल ‘‘सम्मानजनक’’ सीटें मिलने पर ही कोई चुनावी गठबन्धन-समझौता करेगी. बसपा अध्यक्ष लखनऊ में पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आज आयोजित पार्टी की अखिल भारतीय बैठक को संबोधित कर रही थी. उन्होंने कहा कि पार्टी किसी भी राज्य में और किसी भी चुनाव में किसी भी पार्टी के साथ केवल ‘‘सम्मानजनक’’ सीटें मिलने पर ही वहां उस पार्टी के साथ कोई चुनावी गठबन्धन-समझौता करेगी अन्यथा हमारी पार्टी अकेली ही चुनाव लड़ना ज्यादा बेहतर समझती है.

बसपा परिवारवाद से रहेगी मुक्त, पार्टी के संविधान में किए अहम बदलाव

उन्होंने कहा,‘‘ हालांकि इस मामले में हमारी पार्टी की उत्तर प्रदेश सहित कई और राज्यों में भी गठबन्धन करके चुनाव लड़ने की बातचीत चल रही है, लेकिन फिर भी आप लोगों को हर परिस्थिति का मुकाबला करने के लिये अपने-अपने प्रदेश में पार्टी के संगठन को हर स्तर पर तैयार करना है.'  मायावती ने कहा,‘‘' अभी मैं अगले लगभग 20-22 वर्षों तक खुद ही आगे और सक्रिय रहकर पार्टी की गतिविधियों को आगे बढ़ाती रहूँगी और अब ऐसे में अगले लगभग 20-22 वर्षों तक पार्टी में किसी को भी पार्टी का मुखिया बनने का सपना नहीं देखना चाहिये और न ही किसी को अभी मेरा उत्तराधिकारी बनने का भी सपना देखना चाहिये.'  उन्होंने कहा,‘‘ मैं पार्टी कार्यकर्ताओ का ध्यान जल्द ही लोकसभा के होने वाले आम चुनाव की तरफ तथा इससे पहले देश के कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की तरफ भी दिलाना चाहती हूं. कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के बाद सरकार बनाने के मामले में भाजपा की किरकिरी होने की वजह से अब यह पार्टी समय से पहले भी लोकसभा के आम चुनाव करा सकती है.’’' 

वीडियो : बंगला बचाने के लिये स्मारक घोषित

मायावती ने अपनी पार्टी के संविधान में कुछ जरूरी फैसले लिये जाने की जानकारी देते हुए बताया,‘‘ मुझे खुद को भी मिलाकर तथा मेरे बाद अब आगे भी बसपा का जो भी ‘‘राष्ट्रीय अध्यक्ष’’ बनाया जायेगा तो फिर उसके जीते-जी व ना रहने के बाद भी उसके परिवार के किसी भी नजदीकी सदस्य को पार्टी संगठन में किसी भी स्तर के पद पर नहीं रखा जायेगा अर्थात उनके परिवार के सदस्य बिना किसी पद पर बने रहकर और एक साधारण कार्यकर्ता के रूप में ही केवल अपनी निःस्वार्थ भावना के साथ ही पार्टी में कार्य कर सकते है.' 

टिप्पणियां
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement