बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध जीतू फौजी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

बुलंदशहर हिंसा (Bulandshahr mob violence): इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध आर्मी जवान जीतू फौजी (Jitu Fauji) को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा.

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध जीतू फौजी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

सुबोध कुमार सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध जीतू फौजी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया.

खास बातें

  • बुलंदशहर हिंसा मामले में पुलिस की बड़ी कार्रवाई
  • इंस्पेक्टर की हत्या का संदिग्ध आर्मी जवान गिरफ्तार
  • कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा
नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर (Bulandshahr mob violence) में बीते सोमवार को गोकशी के शक में भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध आर्मी जवान जीतू फौजी (Jitu Fauji) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तारी के बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया था, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. बता दें कि पुलिस ने जीतू फौजी की पुलिस रिमांड नहीं मांगी, लिहाजा अदालत ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. इससे पहले एनडीटीवी से सूत्रों ने कहा था कि जीतू फौजी पिछले 36 घंटे से पुलिस की रडार पर था. पुलिस की हिरासत में जीतू से पुछताछ हुई. पुलिस के सामने जीतू ने स्वीकार किया है कि वह भीड़ का हिस्सा था. दरअसल, बुलंदशहर में गोकशी के शक में भड़की हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई थी, जिनमें एक पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह थे और एक सुमित नाम का युवक था. 
 


बुलंदशहर हिंसा : घटना के समय मौके पर मौजूद था जीतू फौजी, सामने आया VIDEO

मेरठ के सीनियर पुलिस ऑफिसर एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने कहा कि हमने आर्मी जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू को गिरफ्तार कर लिया है. उसे सेना ने रात 12.50 बजे हमें सौंपा. प्राथमिक पूछताछ पूरी हो चुकी है और उसे बुलंदशहर लाया जा रहा है. उसे आज न्यायिक हिरासत के लिए कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा. 

एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक ने कहा कि पूछताछ में जीतू ने स्वीकार किया है कि वह भीड़ का हिस्सा था. प्रथम दृष्टया यह सच पाया गया. हालांकि, यह अभी तक पता नहीं लग पाया है कि वह इंस्पेक्टर या सुमित को गोली मारने वाला व्यक्ति है या नहीं. उसने कहा कि वह ग्रामीणों के साथ वहां गया, लेकिन पुलिस पर पत्थरबाजी की बात से उसने इनकार कर दिया है. जीतू के मोबाइल को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा. 

हालांकि, मीडिया के सामने जीतू ने खुद को निर्दोष बताया और कहा कि उसे नहीं मालूम गोली किसने चलाई है.

Bulandshar Violance: आरोपी जीतू फौजी के बचाव में उतरा भाई, कहा- साजिश के तहत फंसाया जा रहा  

सूत्रों की मानें तो जीतू को पकड़ने के लिए पुलिस की दो टीमें जम्मू-कश्मीर के सोपोर गई थी. उसे शुक्रवार की रात में हिरासत में ले लिया गया था. बताया जा रहा है कि जीतू फौजी राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात है और हिंसा के दिन मौके पर भी मौजूद था. जितेंद्र मलिक सोपोर में राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात है. वह 15 दिन की छुट्टी पर बुलंदशहर आया था. इतना ही नहीं, हिंसा के दिन मौके पर मौजूद था. हिंसा के बाद सोमवार को बुलंदशहर से भागकर सोपोर आ गया था. 

Bulandshahr Violence: बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज ने VIDEO मैसेज जारी कर दी सफाई, कही यह बात...

हालांकि, बुलंदशहर भीड़ हिंसा मामले में सेना ने जितेंद्र मलिक को जांच में सहयोग करने को कहा था. जितेंद्र ने अपनी रेजिमेंट को बताया कि उसके गांव के खेत में गौ मांस मिला था. वो इसलिए मौके पर भी गया था. पुलिस को बुलाने वालों में वो भी था. उसने अपनी रेजिमेंट को बताया कि वो हिंसा में शामिल नहीं था. वो अपने गांव वालों के साथ स्याना चौकी गया था. 
 

NDTV Exclusive: बुलंदशहर हिंसा पर बोले मेरठ रेंज के IG, योगेश राज के खिलाफ सबूत मिलते ही होगी कार्रवाई, गोली किसने चलाई अभी पता नहीं

बता दें कि बीते दिनों बुलंदशहर में गोकशी के शक में हिंसा भड़क गई थी, जिसमें इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और एक आम नागरिक सुमित की मौत हो गई थी. बुलंदशहर हिंसा मामले में पुलिस की एफआईआर में बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज को मुख्य आरोपी बनाया गया है. हालांकि, अभी तक योगेश राज भी फरार है. मगर सुबोध कुमार सिंह की मौत का आरोप अब जीतू फौजी पर लगा है. बताया जा रहा है कि इसकी गिरफ्तारी से कई सारी बातें सामने आ सकती हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वहीं पुलिस में एक और एफआईआर दर्ज कराई गई है. यह एफआईआर गोकशी मामले में है. बजरंग दल के योगेश राज ने यह एफआईआर दर्ज कराई है. इसमें सात मुस्लिमों के नाम हैं, जिनमें से एक नाबालिग है. यूपी पुलिस योगेश राज की तलाश कर रही है. हालांकि, योगेश राज ने एक वीडियो जारी कर कहा कि वह घटना के वक्त घटनास्थल पर नहीं था और उसने गोली नहीं चलाई है.

VIDEO: मेरे बेटे ने नहीं की इंस्पेक्टर की हत्या: जीतू की मां