NDTV Khabar

बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपी योगेश राज को 30 दिनों तक पकड़ ना पाई पुलिस, अब बजरंग दल के नेताओं ने ही सौंपा

पुलिस ने योगेश को बीती रात गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि योगेश राज की गिरफ्तारी नेताओं की सहयोग के बाद हुई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. योगेश राज बजरंग दल का जिला संयोजक है
  2. हिंसा के बाद से फरार था योगेश राज
  3. पुलिस ने यूपी के खुर्जा से किया गिरफ्तार
नई दिल्ली:

गोकशी की अफवाह के बाद बुलंदशहर  (Bulandshahr Mob Violence) में फैली हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज (Yogesh Raj) को त्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) ने गिरफ्तार कर लिया है. योगेश राज को स्याना हिंसा का मुख्य आरोपी बनाया गया था. वह बजरंग दल का जिला संयोजक है और हिंसा के बाद से फरार था. पुलिस ने योगेश को बीती रात गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि योगेश राज की गिरफ्तारी नेताओं की सहयोग के बाद हुई है. हालांकि, पुलिस ने अभी तक उसकी गिरफ्तारी का खुलासा नहीं किया है. बताया जा रहा है कि एसएसपी योगेश राज की गिरफ्तार पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं.

पिछले 30 दिनों से फरार चल रहे योगेश राज की गिरफ्तारी बुलंदशहर के खुर्जा से हुई  है. अब पुलिस को बजरंग दल के नेताओं ने ही सौंपा है. पुलिस आज उसे कोर्ट में पेश करेगी. उस पर हिंसा भड़काने का आरोप है और पुलिस ने उसे ही मुख्य आरोपी बनाया है. योगेश राज ने ही गो हत्या मामले में झूठी एफआईआर दर्ज करवाई थी.


बुलंदशहर हिंसा: कोर्ट ने 4 बेगुनाहों को किया रिहा, पीड़ितों ने बताया, कैसे गिरफ्तारी ने पूरे परिवार को कर दिया बर्बाद

बता दें, बुलंदशहर के स्याना इलाके में कथित रूप से गोवंश के अवशेष मिलने के बाद हिंसा फैल गई थी. गोवंश के अवशेष मिलने के बाद पुलिस को इसकी सूचना दी गई थी, पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां लोगों की भीड़ पहले से वहां मौजूद थी. पुलिस भीड़ को समझाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन लोग काफी उग्र थे और उन्होंने पुलिस पर ही हमला कर दिया. हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई. वहीं गोली लगने से सुमित नाम का एक युवक भी मारा गया था. 

बुलंदशहर हिंसा: चश्मदीद को क्राइम सीन पर ले गई पुलिस, कहा- जॉनी ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को घुटनों के बल बिठाया, प्रशांत ने मारी गोली

पुलिस ने इस्पेक्टरसुबोध कुमार सिंह (Subodh Kumar Singh) पर कुल्हाड़ी से हमला करने वाले कलुआ उर्फ राजीव को 28 दिन बाद सोमवार देर रात गिरफ्तार किया था. पुलिस के मुताबिक कलुआ ने ही सबसे पहले सुबोध कुमार सिंह पर हमला किया था. कलुआ कुल्हाड़ी से पेड़ की टहनी काट सड़क जाम कर रहा था, इंस्पेक्टर ने रोका तो उसने कुल्हाड़ी से उन पर ही हमला कर दिया. मुख्य आरोपी कलुआ ने पहले इंस्पेक्टर की अंगुलियां काटी फिर कुल्हाड़ी से ही सिर पर कई वार कर दिए. इस हमले में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह बुरी तरह घायल हो गए. जख्मी हालत में इंस्पेक्टर जान बचाने खेतों की तरफ भागे तो प्रशांत नट ने उन्हें पकड़कर घुटनों के बल गिरा लिया. इसके बाद नट ने इंस्पेक्टर की ही लाइसेंसी रिवॉल्वर छीनकर उन्हें गोली मार दी.

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह पर कुल्हाड़ी से हमला करने वाले कलुआ को 28 दिन बाद पुलिस ने दबोचा

वहीं हिंसा के 25 दिन बाद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के हत्यारे प्रशांत नट को गिरफ्तार किया गया था. इंस्पेक्टर पर गोली चलाने का आरोप नट पर ही है. वहीं, रिवॉल्वर चुराने वाले की भी पहचान हो गई है और उसकी तलाश जारी है. पुलिस के आला सूत्रों के मुताबिक़ जॉनी नाम के शख़्स ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की रिवॉल्वर चुराई थी, वहीं, प्रशांत नट ने उन्हें गोली मारी थी. पुलिस को हाथ लगे दो वीडियो में ये दोनों शख्स साथ दिख रहा है.

Exclusive: बुलंदशहर मामले में बड़ा खुलासा: पहले इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की उंगली काटी, फिर कुल्हाड़ी से सिर पर किया वार और तब मारी गोली

टिप्पणियां

VIDEO- बुलंदशहर हिंसा : घेर कर मारा गया था इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement