NDTV Khabar

बुलंदशहर हिंसा : विपक्ष के निशाने पर सीएम योगी आदित्यनाथ, आजम खान ने जताया 'शक'

इस घटना के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ विपक्ष के निशाने पर गए हैं जो इस समय राजस्थान में बीजेपी का प्रचार कर रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बुलंदशहर हिंसा : विपक्ष के निशाने पर सीएम योगी आदित्यनाथ, आजम खान ने जताया 'शक'

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. विपक्ष के निशाने पर योगी आदित्यनाथ
  2. आप ने मांगा इस्तीफा
  3. कांग्रेस ने भी साधा निशाना
नई दिल्ली: बुलंदशहर हिंसा  मामले में अब तक मुख्य आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है. जो 4 लोग पुलिस की गिरफ्त में हैं उनके बारे में पुलिस का कहना है कि वह किस संगठन से इसके बारे में पता नहीं है. हालांकि गांव के पूर्व सरपंच का कहना है कि हम सभी पशुओं को दफनाने के लिए मान गए थे लेकिन अचानक बजरंग दल वालों ने पथराव शुरू कर दिया और इसके बाद हिंसा शुरू हो गई. वहीं इसी घटना में मारे गए स्थानीय निवासी सुमित के शरीर से भी गोली निकली है. हालांकि ये गोली कितने बोर की है इसकी जानकारी फाइनल पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से ही निकलकर सामने आएगी. वहीं इस घटना के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ विपक्ष के निशाने पर गए हैं जो इस समय राजस्थान में बीजेपी का प्रचार कर रहे हैं.आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने उनका इस्तीफा मांगा है. वहीं बीजेपी नेता बचाव की मुद्रा में हैं.

बुलंदशहर हिंसा: जिसके खेत में मिले थे गाय के अवेशष, उसने कहा- हम उन्हें गाड़ रहे थे पर भीड़ नहीं मानी

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास का नकवी का बयान
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि बुलंदशहर में जो कुछ भी हुआ है उसकी वजह से मानवता शर्मसार हो गई. राज्य सरकार ने आश्वासन दिया है कि जो भी इस घटना के जिम्मेदार हैं उनको न्याय की परिधि में लाया जाएगा. उन्होंने लोगों से शांति से अपील करते हुए कहा कि ऐसे लोगों से सतर्क रहें जो अपने फायदे लिए अशांति फैलाने की कोशिश कर रहे हैं.

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर के बेटे ने कहा- हिंदू-मुस्लिम के झगड़े में आज मेरे पिता गए, कल किसके पिता?'

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल का बयान

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि यह हैरत वाली बात है कि कि कैसे उस अधिकरी की हत्या कर दी गई जिसने अखलाक मामले की जांच की थी. इन लोगों को कानून को हाथ में लेने का अधिकार किसने दिया है. राज्य की चिंता करने के बजाए सीएम योगी तेलंगाना में जहर फैला रहे हैं.

बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी गिरफ्त से बाहर, पकड़े गए लोग किस संगठन से यह भी नहीं पता : पुलिस

संजय सिंह ने मांगा इस्तीफा
आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने बुलंदशहर में सांप्रदायिक हिंसा का हवाला देते हुये कहा है कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की बदहाली के लिये जिम्मेदार राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पद से इस्तीफा दे देना चाहिये.  सिंह ने ट्वीट कर कहा 'योगी के राज में उत्तर प्रदेश की क़ानून व्यवस्था बदहाल हो चुकी है। क़ानून का राज, जंगलराज में तब्दील हो चुका है.  योगी से प्रदेश नहीं संभल रहा, उनको अपने पद से इस्तीफ़ा दे देना चाहिये.'

बड़ा सवाल : साथ गए पुलिसकर्मियों ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को अकेला क्यों छोड़ा?

आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो : माकपा
माकपा पोलित ब्यूरो द्वारा मंगलवार को जारी बयान के अनुसार, बुलंदशहर जिले में हिंसा के पीछे गौरक्षकों की भूमिका स्पष्ट रूप से उजागर हुयी है. पार्टी ने कहा कि हिंसा फैलाने वालों को सांप्रदायिक कट्टरता फैलाने वालों का खुला समर्थन है. पार्टी ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को अगले साल लोकसभा चुनाव के मद्देनजर योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया जा रहा है. बयान में माकपा पोलित ब्यूरो ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भड़काऊ भाषणों से भी राज्य में सांप्रदायिक हिंसा का माहौल बना है. पार्टी ने हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग करते हुये कहा है कि प्रशासन द्वारा पुख्ता कदम उठाये जायें जिससे सांप्रदायिक हिंसा की ऐसी घटनायें फिर से न दोहरायी जा सकें. इस बीच माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं के लिये भाजपा तथा आरएसएस को जिम्मेदार ठहराते हुये कहा 'भाजपा शासित राज्यों में नफरत का माहौल पैदा किये जाने से जनता में भय है.' उन्होंने बुलंदशहर में हिंसा की घटना का हवाला देते हुये पूछा 'राज्य और केन्द्र सरकार उत्तर प्रदेश के लोगों को सुरक्षित जीवन मुहैया कराने में असमर्थ है, इसके लिये कौन जिम्मेदार है? मोदी और योगी उत्तर प्रदेश को नष्ट कर रहे हैं' 

बुलंदशहर हिंसा इनसाइड स्टोरी: आखिर क्या हुआ था उस दिन कि हैवान भीड़ ने ले ली दो की जान

मायावती ने बीजेपी सरकार को बताया जिम्मेदार
भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुये बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हर तरह की अराजकता को संरक्षण देने का परिणाम है कि अब क़ानून के रखवाले भी बलि चढ़ रहे हैं। यह अति-दुःख और चिन्ता की बात है. बुलन्दशहर में सोमवार को हुई हिंसक घटना में एक पुलिस अधिकारी और एक युवक की मौत पर गहरा दुःख तथा संवेदना व्यक्त करते हुये मायावती ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि भाजपा और उसकी सरकारों को उसके ही द्वारा उत्पन्न किये गये भीड़तंत्र के हिंसक एवं अराजक राज को खत्म करने के लिये देश और प्रदेशों में कानून का राज स्थापित करने का पूरी ईमानदारी से प्रयास करना चाहिये ताकि देश के संविधान व लोकतंत्र को भीड़तंत्र की बलि चढ़ने से रोका जा सके. 

बुलंदशहर भीड़ हिंसा: 'हम पीछे हटते रहे, भीड़ 'मारो-मारो' के नारे के साथ करती रही हमला, ऐसे ले ली जांबाज इंस्पेक्टर की जान'

आजम खान ने जताया शक
सपा नेता आजम खान ने कहा कि दो मौतें हुई हैं. जो बात सुनने में आ रही है और अगर में इस बात को जुबान से कहूंगा तो माहौल खराब होगा. एसआईटी अगर जाँच करेगी तो उसे यह जाँच भी करनी चाहिए के आखिर इस काविले एतेराज़ गोश्त  को यहां लाया कौन था. या यह काम किया किसने था क्योंकि वहां तो दूर-दूर तक अल्पसंख्यकों की आबादी नहीं है और इस सारी भीड़ में कोई शख्स ऐसा नहीं है और अभी तक कोई सुराग भी नहीं है. 

बुलंदशहर भीड़ हिंसा अपडेट: पुलिस ऑफिसर की हत्या मामले में गोकशी का शिकायतकर्ता ही है मुख्य आरोपी

टिप्पणियां
अभिषेक मनु सिंघवी का बयान
उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा पर कांग्रेस ने प्रदेश के मुख्मयंत्री योगी आदित्यनाथ को आड़े हाथ लेते हुए आरोप लगाया कि प्रदेश को 'अराजक तत्वों' को सौंपने  के बाद वह अपनी पार्टी के लिए प्रचार करने में व्यस्त हैं. पार्टी ने यह भी कहा कि यह हिंसा कानून और व्यवस्था की सबसे बदतर विफलता है और उन्हें देशभर में चुनाव प्रचार के लिए ‘घूमने' से पहले अपने घर को व्यवस्थित करना चाहिए.  कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पत्रकार वार्ता में कहा कि उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में इस प्रकृति की विफलता कानून एवं व्यवस्था और शासन की सबसे बदतर नाकामी है. 

बुलंदशहर हिंसा में 4 गिरफ्तार, मुख्य आरोपी योगेश राज फरार​

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement