NDTV Khabar

बुंदेलखंड: पहले सूखे अब बेमौसम की बारिश से परेशान किसान कर रहे हैं आत्महत्या

पहले सूखे से और अब ज्यादा बारिश की वजह से बुंदेलखंड के किसान आत्महत्या कर रहे हैं. कई साल से बुंदेलखंड में पड़ रहे सूखे के चलते किसान आत्महत्या कर रहे थे, लेकिन इस साल बेमौसम बारिश के चलते बुंदेलखंड में खरीफ की फसल चौपट हो गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बुंदेलखंड: पहले सूखे अब बेमौसम की बारिश से परेशान किसान कर रहे हैं आत्महत्या

प्रतीकात्मक तस्वीर

उत्तर प्रदेश:

पहले सूखे से और अब ज्यादा बारिश की वजह से बुंदेलखंड के किसान आत्महत्या कर रहे हैं. कई साल से बुंदेलखंड में पड़ रहे सूखे के चलते किसान आत्महत्या कर रहे थे, लेकिन इस साल बेमौसम बारिश के चलते बुंदेलखंड में खरीफ की फसल चौपट हो गई. जिससे किसानों में घोर निराशा है. ऊपर से बैंक के एक के बाद एक कर्जे वसूली की नोटिस से परेशान किसान आत्महत्या कर रहे हैं. हफ्तेभर पहले ललितपुर व जालौन जिले के दो किसानों ने आत्महत्या कर ली. अभी 14 अक्टूबर को कर्ज में डूबे किसान ने कीटनाशक दवा पीकर की आत्महत्या कर ली.

Maharashtra Assembly Election: BJP ने जारी किया घोषणा पत्र, वीर सावरकर को भारत रत्न दिलाने का किया वादा

भाकियू (भानू) के नेता शिवनारायण सिंह ने बताया कि ललितपुर के किसान रतन सिंह अपने खेतों पर गए थे और जब शाम को घर लौटा तो उसने अपनी पत्नी से कहा कि भयंकर बारिश होने से अपनी पूरी फसल नष्ट हो गयी है. अब कर्ज कैसे चुकायेंगे जब घर वाले रात को सो गये थे, तब किसान रतन सिहं ने कीटनाशक दवा पीली और जब चीख पुकार की आवाज सुनी तो तुरंत घर वाले जिला चिकित्ससालय ललितपुर ले गये. यहां डाक्टरों ने हालत ख़राब देख झांसी रिफर कर दिया लेकिन तब तक किसान ने दम तोड़ दिया. रतन सिंह पर बैंक का करीब 10 लाख रुपए का कर्ज था.


जम्मू-कश्मीर: अनुच्छेद 370 हटाने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहीं फारुक अब्दुल्ला की बेटी और बहन को पुलिस ने हिरासत में लिया

इसी तरह 12 अक्तूबर को जालौन के जमरेही गांव के किसान राजा भय्या ने आत्महत्या कर ली. किसान राजा भइया ने 2010 में 60 हजार का कर्ज लिया था जो बढ़कर 2लाख 4 हजार हो गया है. बैंक ने जब नोटिस भेजा तो किसान ने आत्महत्या कर लिया. अब किसान नेताओं ने मांग की है कि बैंक कर्ज अदायगी की नोटिस न भेजे. फसल खराब होने से परेशान किसानों को ये नोटिस और परेशानी में डाल देते हैं.

(आत्‍महत्‍या किसी समस्‍या का समाधान नहीं है. अगर आपको सहारे की जरूरत है या आप किसी ऐसे शख्‍स को जानते हैं जिसे मदद की दरकार है तो कृपया अपने नजदीकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ के पास जाएं.)

टिप्पणियां

हेल्‍पलाइन नंबर:

AASRA: 91-22-27546669 (24 घंटे उपलब्ध)
स्‍नेहा फाउंडेशन: 91-44-24640050 (24 घंटे उपलब्ध)
वंद्रेवाला फाउंडेशन फॉर मेंटल हेल्‍थ: 1860-2662-345 और 1800-2333-330 (24 घंटे उपलब्ध)
iCall: 022-25521111 (सोमवार से शनिवार तक उपलब्‍ध: सुबह 8:00 बजे से रात 10:00 बजे तक)
एनजीओ: 18002094353 दोपहर 12 बजे से रात 8 बजे तक उपलब्‍ध)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement