NDTV Khabar

चिन्मयानंद को झटका, शाहजहांपुर की CJM कोर्ट ने 14 दिन के लिए बढ़ाई न्यायिक हिरासत 

लॉ स्टूडेंट से यौन शोषण के आरोप में जेल में बंद पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) की न्यायिक हिरासत की अवधि गुरुवार को 14 दिनों के लिए बढ़ा दी गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चिन्मयानंद को झटका, शाहजहांपुर की CJM कोर्ट ने 14 दिन के लिए बढ़ाई न्यायिक हिरासत 

स्वामी चिन्मयानंद की न्यायिक हिरासत 14 दिन के लिए बढ़ी.

शाहजहांपुर:

लॉ स्टूडेंट से यौन शोषण के आरोप में जेल में बंद पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) की न्यायिक हिरासत की अवधि गुरुवार को 14 दिनों के लिए बढ़ा दी गई. चिन्मयानंद की सीजेएम (CJM) अदालत में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पेशी हुई. अदालत ने चिन्मयानंद की पेशी की अगली तारीख 16 अक्टूबर तय की है. चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि चिन्मयानंद को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया था. आज सीजेएम की अदालत में उनकी पेशी होनी थी, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते जेल से ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उनकी पेशी हुई. अधिवक्ता ने बताया कि सीजेएम ओमवीर सिंह ने चिन्मयानंद की न्यायिक हिरासत 14 दिन के लिए और बढ़ा दी है.

रेप के आरोपी चिन्मयानंद को नहीं मिली जमानत, पीड़ित लॉ छात्रा को भी रंगदारी के मामले में राहत नहीं


अधिवक्ता पूजा सिंह ने बताया कि चिन्मयानंद को मोतियाबिंद है और उनकी नजर कम हो रही है, क्योंकि मोतियाबिंद के कारण आंख के पास नस में तेज दर्द हो रहा है. पूजा सिंह ने कहा कि उन्होंने अदालत में भी इस बात को रखा है कि स्वामी पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हैं. ऐसे में जेल में उन्हें 'ए' क्लास की सुविधाएं मिलनी चाहिए परंतु उन्हें साधारण बंदियों की तरह भोजन और साधारण बंदियों की तरह फर्श पर लेटना पड़ रहा है. ओम सिंह ने बताया कि स्वामी और पीड़िता की आवाज के नमूने लेने के लिए विशेष जांच दल (SIT) ने सीजेएम की अदालत में अर्जी दी है जिस पर शुक्रवार को सुनवाई होनी है.

SGPGI से छुट्टी मिलने के बाद अब आंख दर्द की शिकायत लेकर KGMU पहुंचे चिन्मयानंद

उधर कलेक्ट्रेट में 'जनता की आवाज' नामक संगठन के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और चिन्मयानंद पर धारा 376 लगाने की मांग की. उन्होंने राज्यपाल के नाम भेजे गए ज्ञापन में आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार स्वामी का बचाव कर रही है.
एलएलएम की एक छात्रा ने 24 अगस्त को वीडियो वायरल कर चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाया था. इसके बाद उच्चतम न्यायालय ने इस प्रकरण पर स्वत: संज्ञान लेते हुए पीड़िता को न्यायालय में तलब किया और मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार को एसआईटी के गठन का निर्देश दिया था. न्यायालय के निर्देश के बाद एसआईटी ने यौन शोषण के आरोपी चिन्मयानंद एवं रंगदारी मांगने के मामले में पीड़िता समेत चार लोगों को जेल भेज दिया. इसी मामले में स्वामी की न्यायिक हिरासत 14 दिन के लिए और बढ़ायी गई है. 

टिप्पणियां

VIDEO: रेप के मामले में सख़्त कानून बनने के बाद भी क्या हुआ?​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement