NDTV Khabar

गौ संरक्षण में अनियमितताएं पाए जाने पर सीएम योगी ने की कार्रवाई, महराजगंज के DM समेत 5 अधिकारी सस्पेंड

गौ संरक्षण और संवर्धन के मामले में बड़ी लापरवाही सामने आने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को महराजगंज के जिलाधिकारी समेत पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गौ संरक्षण में अनियमितताएं पाए जाने पर सीएम योगी ने की कार्रवाई, महराजगंज के DM समेत 5 अधिकारी सस्पेंड

योगी आदित्यनाथ ने महराजगंज के DM समेत पांच अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया

खास बातें

  1. गौ संरक्षण में अनियमितताएं पाएं जाने पर सीएम योगी ने लिया एक्शन
  2. रिकॉर्ड में 2500 गौवंश, जांच में मिले सिर्फ 900
  3. संख्या कम होने पर भी चारे व अन्य खर्चों में कोई कमी नहीं
लखनऊ:

गौ संरक्षण और संवर्धन के मामले में बड़ी लापरवाही सामने आने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को महराजगंज के जिलाधिकारी समेत पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया है. गौ संरक्षण और संवर्धन में लापरवाही के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर मुख्य सचिव आर.के. तिवारी ने महराजगंज के जिलाधिकारी (डीएम) अमरनाथ उपाध्याय, उप जिला अधिकारी (एसडीएम) देवेंद्र कुमार और सत्यम मिश्रा, मुख्य पशु अधिकारी राजीव उपाध्याय और मुख्य उप पशु चिकित्सा अधिकारी वी. के. मौर्या को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है. इन सभी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के भी निर्देश दे दिए गए हैं. 

बजरंग दल कार्यकर्ता को गौ तस्करों ने मारी गोली, गाड़ी दौड़ाते हुए सामने आया Video


प्रदेश के मुख्य सचिव आर.के. तिवारी ने बताया, "महराजगंज जिले के मधुबलिया गो सदन में गोवंश के रखरखाव में अनियमितता मिलने पर जिलाधिकारी समेत पांच अधिकारी निलंबित किए गए हैं." तिवारी ने बताया, "जांच में पता चला कि अभिलेखों के अनुसार यहां पर 2500 गोवंश होने चाहिए थे. निरीक्षण में मात्र 900 पाए गए. यह कमी गम्भीर अनियमितता और शिथिलता है." उन्होंने बताया, "अपर आयुक्त गोरखपुर की जांच समिति ने पाया कि किसी भी जिम्मेदार अधिकारी ने इसकी वजह साफ नहीं की. इससे यह लगता है कि संख्या जानबूझकर अधिक बताई गई. 

चारा खाने से सरकारी गौशाला में 11 गायों, सात बछड़े-बछिया समेत 22 जानवरों की मौत

टिप्पणियां

संख्या कम होने के बावजूद चारे या अन्य व्यय में कोई कमी नहीं थी. अभिलेख भी सही नहीं पाया गया. 500 एकड़ जमीन का पशुपालन विभाग का कब्जा था, जबकि समिति ने गैर कानूनी ढंग से 380 एकड़ जमीन निजी व्यक्ति को लीज पर दे दी. इसकी न किसी से अनुमति ली गई और न ही कोई विधिक प्रक्रिया अपनाई गई. यह भी एक गंभीर वित्तीय अनियमितता की श्रेणी में आता है."

Video: मध्य प्रदेश के खंडवा में हिंदू-मुस्लिम मिलकर बना रहे हैं गायों का अस्पताल



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement