अवैध निर्माणों के लिए लाई जाए कंपाउंडिंग नीति : योगी आदित्यनाथ

कहा- जनमत हासिल करने के बाद जागरूकता अभियान के जरिए अवैध निर्माण को ध्वस्त करना चाहिए

अवैध निर्माणों के लिए लाई जाए कंपाउंडिंग नीति : योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो).

खास बातें

  • कहा- अवैध कालोनियों की अनुमति देने वालों की जवाबदेही तय की जाए
  • सुधारा जा सकता है झुग्गी बस्तियों में जीवन स्तर
  • ट्रैफिक पुलिस के साथ आठ-दस अतिरिक्त क्रेनों का इंतजाम किया जाए
लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा कि व्यावसायिक और आवासीय भवनों में अवैध निर्माण तथा अवैध कालोनियों के लिए एक कंपाउडिंग नीति लाई जानी चाहिए. आवास एवं शहरी विकास विभाग के प्रस्तुतिकरण की समीक्षा के दौरान योगी ने कहा कि इस विषय पर जनमत हासिल किया जाना चाहिए और उसके बाद जागरूकता अभियान के जरिए अवैध निर्माण को ध्वस्त करना चाहिए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों ने अवैध कालोनियों की अनुमति दी, उनकी जवाबदेही तय की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि अवैध निर्माण को चिह्नित करने के लिए अलग-अलग टीमें बनाई जानी चाहिए.

योगी ने कहा कि जिन लोगों ने अवैध निर्माण किया है, उन्हें इसके बारे में बताया जाना चाहिए. अगर वे स्वयं अवैध निर्माण को ध्वस्त कर देते हैं तो ठीक है, अन्यथा विभाग को इसे ध्वस्त करना चाहिए और फीस वसूलनी चाहिए. उन्होंने कहा कि झुग्गी बस्तियों में जीवन स्तर को सुधारा जा सकता है क्योंकि ये सभी सरकारी भूमि पर बसी हैं.

योगी ने कहा कि सभी कस्बों के लिए एक ठोस योजना बनाई जानी चाहिए. वहां मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने पर विशेष ध्यान देना चाहिए. व्यावसायिक भवनों में पार्किंग की समस्या के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि हर शहर में ट्रैफिक पुलिस के साथ आठ-दस अतिरिक्त क्रेनों का इंतजाम किया जाना चाहिए. जहां कहीं भी वाहन सड़कों पर खड़े किए जा रहे हों, वाहन स्वामियों पर जुर्माना लगाया जाना चाहिए.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com