नोएडा की एक कंपनी में काम करने वाला युवक पहुंचा बरेली, परिवार के 5 लोगों को किया पॉजिटिव

नोएडा की एक कंपनी में काम करने वाला युवक जब अपने घर बरेली पहुंचा तो उसकी वजह से उसके ही परिवार के पांच लोगो कोरोनावायरस से संक्रमित हो गए.

नोएडा की एक कंपनी में काम करने वाला युवक पहुंचा बरेली, परिवार के 5 लोगों को किया पॉजिटिव

प्रतीकात्मक तस्वीर.

बरेली:

देशभर में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच उत्तर प्रदेश के बरेली से बड़ी आई है. नोएडा की एक कंपनी में काम करने वाला युवक जब अपने घर बरेली पहुंचा तो उसकी वजह से उसके ही परिवार के पांच लोगो कोरोनावायरस से संक्रमित हो गए. इस तरह से बरेली में एक ही परिवार से 6 लोगों को पॉजिटिव पाया है.

वहीं, एक अन्य खबर के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश के बरेली में प्रवासी मजदूरों पर संक्रमण की आशंका को खत्म करने के लिये स्थानीय कर्मचारियों द्वारा रासायनिक घोल का छिड़काव करने की घटना को ‘अति उत्साह में की गयी कार्रवाई' बताते हुये कहा कि स्थानीय प्रशासन ने इस पर संज्ञान लेते हुये कार्रवाई की है. स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि संभवत: स्थानीय कर्मचारियों ने अनजाने में या संक्रमण की आशंका को खत्म करने के लिये अति उत्साह में श्रमिकों पर इस प्रकार का छिड़काव किया हो .

बता दें, रविवार को बाहरी जिलों से बरेली पहुंचे प्रवासी मजदूरों को "संक्रमण मुक्त करने के लिए" स्थानीय बस अड्डे पर यातायात पुलिस और दमकल विभाग की टीम ने "सोडियम हाइपोक्लोराइड" के घोल का उन पर छिड़काव किया. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद यह मामला चर्चा में आया. अग्रवाल ने कहा कि बरेली के जिलाधिकारी पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि कुछ कर्मचारियों ने अतिसक्रियता में यह काम किया है जिसकी कोई जरूरत नहीं थी. अग्रवाल ने कहा कि लोगों को संक्रमणमुक्त करने के लिये इस तरह का छिड़काव करने की बात दिशानिर्देशों में शामिल नहीं है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वायरल वीडियो में छिड़काव से पहले एक कर्मचारी को श्रमिकों से अपनी आंख बंद करने को कहते सुना गया. छिड़काव के बाद कुछ लोगों ने आंख में जलन की शिकायत की.

वीडियो: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : जर्मनी की तुलना में भारत कैसे लड़ रहा है कोरोना से