लॉकडाउन: यूपी में किसान समय पर ही काट पाएंगे अपनी फसल, हार्वेस्टर को लेनी होगी प्रशासन से मंजूरी

उत्तर प्रदेश में रविवार को कोविड-19 संक्रमण के कुल 11 नये मामले सामने आने के साथ इसके मरीजों की संख्या बढ़कर 72 हो गई.

लॉकडाउन: यूपी में किसान समय पर ही काट पाएंगे अपनी फसल, हार्वेस्टर को लेनी होगी प्रशासन से मंजूरी

प्रतीकात्मक तस्वीर.

लखनऊ:

कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश की सीएम योगी सरकार ने फैसला किया है कि किसानों को समय पर भी अपनी फसल काटने दिया जाएगा. रबी की फसल की कटाई पर गृह एवं सूचना एडिशनल चीफ सेक्रेट्री अवनीश के अवस्थी ने जानकारी दी. अवनीश के अवस्थी ने बताया, 'अप्रैल के प्रथम सप्ताह से गेहूं की फसल की कटाई शुरू होगी. शासन द्वारा दूसरे सप्ताह से गेहूं खरीद की कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाएगी. हार्वेस्टर को मूवमेंट की इजाजत होगी, इसकी अनुमति जिलाधिकारी के स्तर से दी जाएगी.' वहीं, उत्तर प्रदेश में रविवार को कोविड—19 संक्रमण के कुल 11 नये मामले सामने आने के साथ इसके मरीजों की संख्या बढ़कर 72 हो गई. 

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में रविवार को कोविड-19 संक्रमण के 11 नये मामले सामने आये हैं. इनमें नोएडा और मेरठ में चार-चार, गाजियाबाद में दो और एक बरेली का है. इस तरह संक्रमितों की संख्या बढ़कर 72 हो गयी है. नोएडा में अब तक 31 मामले सामने आये हैं. इसके अलावा आगरा में 10, लखनऊ में आठ, गाजियाबाद में सात, मेरठ में पांच, वाराणसी और पीलीभीत में दो-दो तथा लखीमपुर खीरी, मुरादाबाद, कानपुर, जौनपुर, शामली, बागपत तथा बरेली में एक-एक मामला सामने आया है. संक्रमितों में से 14 पूरी तरह ठीक हो चुके हैं. बाकी 54 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है. सभी मरीजों की हालत स्थिर है.

इस बीच, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कहीं भी कोविड—19 के ''सामुदायिक प्रसार'' का मामला सामने नहीं आया है. जहां—जहां भी पॉजिटिव मामले आ रहे हैं, उनके सम्पर्कों को क्वारंटाइन किया जा रहा है. मेरठ में पांच प्रकरण सामने आये, वहां से तीन किलोमीटर के दायरे में कंटेनमेंट का काम किया जा रहा है. वहां से 50 लोगों को चुना गया, जो उनके बेहद करीबी थे या किसी में लक्षण दिखाये पड़े. 18 लोगों को मेडिकल कॉलेज और 32 को फेसिलिटी क्वारंटाइन में रखा गया है. उन्होंने कहा कि हमारी नजर नोएडा पर भी है, जहां एक फैक्ट्री के काफी कर्मचारी संक्रमित हुए हैं, उनके परिवारों तथा जिनमें कुछ लक्षण मिले, उन सभी को फेसिलिटी क्वारंटाइन में रखा गया है.

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद और नोएडा के अधिक मामले सामने आने पर एक वरिष्ठ अधिकारी को हालात का जायजा लेने और मुस्तैदी से काम करने के लिये भेजने को कहा था,ऐसे में हमने वरिष्ठ सहयोगी ए.पी. चतुर्वेदी को एक महीने के लिये तैनात किया है. दोनों ही जिलों के मुख्य चिकित्साधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधीक्षक उन्हें रिपोर्ट देंगे. प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कोविड—19 संक्रमण परीक्षण के लिये आठ लैब काम कर रही हैं जिनमें से तीन प्रयोगशालाएं लखनऊ में जबकि अलीगढ़, वाराणसी, मेरठ, इटावा और गोरखपुर में एक—एक प्रयोगशाला है.उन्होंने कहा कि अभी तक कुल 2284 सैम्पल लिये गये हैं. इनमें से 2171 नेगेटिव आये हैं और 45 अभी टेस्टिंग की प्रक्रिया में हैं.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com