NDTV Khabar

देवरिया शेल्टर होम कांड पर यूपी सरकार को फटकार, हाईकोर्ट ने कहा- कहीं इसके पीछे नेता और VIP तो नहीं?

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने पूछा है कि बच्चियां जिन लाल और सफेद गाड़ियों में ले जाई जाती थीं वे किसकी थीं?

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देवरिया शेल्टर होम कांड पर यूपी सरकार को फटकार, हाईकोर्ट ने कहा- कहीं इसके पीछे नेता और VIP तो नहीं?

देवरिया शेल्टर होम.

खास बातें

  1. कोर्ट ने कहा- इस सेक्स रैकेट के पीछे कहीं नेता और वीआईपी तो नहीं?
  2. बच्चियां जिन लाल और सफेद गाड़ियों में ले जाई जाती थीं वे किसकीं?
  3. 13 अगस्त को सरकार को अदालत में जवाब देना होगा
लखनऊ: इलाहाबाद हाइकोर्ट ने देवरिया शेल्टर होम कांड पर यूपी सरकार को आज सख़्त फटकार लगाते हुए इसकी सीबीआई जांच की मॉनिटरिंग अपने हाथ में ले ली. कोर्ट ने सरकार से करीब एक दर्जन सख़्त सवाल पूछे हैं. कोर्ट ने पूछा है की बच्चियां जिन लाल और सफेद गाड़ियों में ले जाई जाती थीं वे किसकी थीं? इस सेक्स रैकेट के पीछे कहीं नेता और वीआईपी तो नहीं हैं? 13 तारीख को सरकार को अदालत में जवाब देना है.

देवरिया के शेलटर होम में लड़कियों के साथ हुए कथित यौन शोषण मामले को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट सख्त हो गया है. हाइकोर्ट ने यौन शोषण मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार और सीबीआई के वकील से जवाब तलब किया है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जांच की निगरानी स्वयं करने का निर्णय किया है. मुख्य न्यायाधीश डीबी भोसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की पीठ ने कथित यौन शोषण और लड़कियों के लापता होने संबंधी विभिन्न मीडिया रिपोर्टों पर स्वतः संज्ञान लेते हुए यह आदेश दिया है.

यह भी पढ़ें : देवरिया शेल्टर होम कांड को लेकर CM योगी का ऐलान, CBI करेगी मामले की जांच

अदालत ने इस मामले की अगली सुनवाई 13 अगस्त तय करते हुए सीबीआई के वकील ज्ञान प्रकाश और उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता नीरज त्रिपाठी को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि आश्रय गृह की सभी लड़कियों के बयान की प्रति सुनवाई की अगली तारीख से पहले अदालत में पेश किया जाए. पीठ ने आदेश देते हुए कहा कि इस मामले की जांच कर रहे एक जिम्मेदार अधिकारी अगली तारीख पर अदालत में हाजिर रहें.

अदालत ने वकीलों से यह अवगत कराने को कहा कि क्या आश्रय गृह में या इसके आसपास कोई सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, साथ ही उन कारों के मालिकों के बारे में भी अवगत कराए जाने को कहा जिनका उपयोग मीडिया की खबरों के मुताबिक, नाबालिग लड़कियों को रात्रि में आश्रय गृह से ले जाने के लिए किया जाता था. उत्तर प्रदेश सरकार ने अदालत को बताया गया कि इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने के लिए गृह मंत्रालय को पत्र भेजा गया है.  अतिरिक्त महाधिवक्ता नीरज त्रिपाठी ने सुनवाई के दौरान कहा कि राज्य सरकार मंजूरी मिलते ही इस मामले को तत्काल सीबीआई को ट्रांसफर कर देगी. महाधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए देवरिया के तत्कालीन जिलाधिकारी का तुरंत तबादला कर दिया गया.

टिप्पणियां
VIDEO : राज्य के सभी शेल्टर होम की होगी जांच

कोर्ट ने काली सूची में डाले जाने के बावजूद आश्रय गृह के संचालित होने पर कहा कि, ऐसा लगता है कि इसके मालिकों को किसी राजनेता या विशिष्ट व्यक्ति का संरक्षण प्राप्त था. लड़कियों को उस आश्रय गृह में ले जाया जा रहा था और वहां के प्रबंधकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई, जबकि जिला प्रशासन को समय-समय पर इस संबंध में कई शिकायतें प्राप्त होती रहीं.' बता दें कि देवरिया के एक आश्रय गृह से कथित सेक्स रैकेट चलाए जाने और नाबालिग लड़कियों का कथित यौन शोषण किए जाने का मामला पिछले रविवार को उस समय सामने आया, जब वहां से भागकर थाने पहुंची एक लड़की ने पुलिस को इस बारे में बताया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement