NDTV Khabar

यूपी के एक वोटर की नज़र में बतौर पीएम यह ‘फर्क’ है मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी के बीच...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी के एक वोटर की नज़र में बतौर पीएम यह ‘फर्क’ है मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी के बीच...

राघवेंद्र सिंह का कहना है कि इस बार वह बीजेपी को वोट देगा...

खास बातें

  1. सपा परिवार में झगड़े के चलते मतदाता बना रहे पार्टी से दूरी
  2. नोटबंदी के बावजूद बीजेपी के पक्ष में लोगों का बढ़ रहा रुझान
  3. विपक्षी पार्टियां नोटबंदी के मुद्दे को भुनाने में सफल नहीं हो रहीं है
लखनऊ:

राघवेंद्र सिंह ने हाल ही में लखनऊ में उबेर ड्राइवर के रूप में काम करना शुरू किया है. जैसे ही एयरपोर्ट से बाहर निकलता है शहर के नए मेट्रो के ओवरहेड ट्रैक के टॉवर पर लगे मुलायम सिंह यादव के एक होर्डिंग पर उसकी नज़र जाती है. पोस्टर में दावा किया गया है कि यह एयरपोर्ट दुनिया का दूसरे दर्जे का एयरपोर्ट है. हालांकि पोस्टर तेजी से चल रही हवा में संघर्ष कर रहा है और सपा परिवार में चल रहे झगड़े की याद दिलाता है. मुलायम सिंह और उनके बेटे के बीच संघर्ष जारी है.
 

mulayam poster 650

चुनावी चर्चा शुरू होने पर एक आम वोटर के तौर पर राघवेंद्र सिंह का कहना है कि वर्ष 2012 में उसने समाजवादी पार्टी को वोट दिया था. इस बार, वह बीजेपी के पक्ष में मतदान करेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ किया है कि नोटबंदी उत्तर प्रदेश में उनके अभियान का आधार बनेगी. हालांकि विपक्ष का कहना है कि नोटबंदी पूरी तरह से फेल रही है और नकदी संकट के चलते लोगों को बहुत तकलीफ झेलनी पड़ी है.


वहीं राघवेंद्र सिंह का कहना है कि नोटबंदी से उसे कोई शिकायत नहीं है. सवालिया लहजे में उसने कहा, "गरीब लोगों के पास पहले ही पैसे नहीं थे...और अब भी पैसे नहीं है...इसलिए हमें क्या परेशानी होगी? "अब तो पेटीएम है. लोग मोबाइल फोन से भुगतान कर रहे हैं. किसी भी स्थिति में गांव के लोग 1000-2000 रुपये से ज्यादा पैसे खर्च नहीं करते. हो सकता है कि बड़े आदमियों को इससे तकलीफ हुई हो."   

वह मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई जनधन और जीरो बैलेंस खाते की योजना से भी खुश है. पीएम मोदी ने हाल के भाषणों में कहा था कि नोटबंदी से गरीबों को फायदा होगा. राघवेंद्र सिंह का कहना है कि हमारे गांव में हर कोई पीएम मोदी को टीवी को देखते हैं. टीवी के चारों ओर इकट्ठा हो जाते हैं. हम लोग यूट्यूब पर भी उनके भाषण देखते हैं. हर कोई उन पर भरोसा करता है.

टिप्पणियां

ड्राइवर ने बताया, "जब मनमोहन सिंह बोलते हैं तो अंग्रेजी में बोलते थे. कोई उनका एक शब्द भी नहीं समझ पाता है. मोदी जब बोलते हैं तो हमसे बोलते हैं और हम उन्हें सुनते हैं." 

साफ है कि वह पीएम मोदी के भाषणों पर पैनी नज़र रखता है. उसका कहना है, "नोटबंदी से सरकार को अधिक कर मिलेगा फलस्वरूप बजट बढ़ेगा." यही बात प्रधानमंत्री अपनी रैलियों में कह चुके हैं. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement