NDTV Khabar

मथुरा में पत्रकार के साथ मारपीट के मामले में 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर पत्रकार को देखने जिला अस्पताल पहुंचे और पुलिस की कार्रवाई पर खेद व्यक्त करते हुए कहा कि यह गलत हुआ है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मथुरा में पत्रकार के साथ मारपीट के मामले में 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. पत्रकार ने बीच सड़क से गाड़ी हटाने का किया था अनुरोध
  2. मारपीट कर पुलिस ने थाने में ले जाकर बैठाया
  3. हालत बिगड़ने पर पहुंचाया अस्पताल
मथुरा:

उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने एक पत्रकार से अभद्रता एवं बुरी तरह से मारपीट करने के आरोप में संबंधित पुलिस चौकी के इंचार्ज सहित चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं. पुलिस प्रमुख ने प्रथमदृष्टया जांच परिणाम के आधार पर उक्त पुलिसकमियों को गैर जोन में स्थानांतरित किए जाने के लिए भी पुलिस मुख्यालय को संस्तुति भेजने का निर्णय लिया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, एक स्थानीय अखबार के संवाददाता श्याम जोशी मंगलवार रात्रि काम खत्म कर जब अपनी बाइक से घर लौट रहे थे, तभी अड़ींग पुलिस चौकी क्षेत्र में सड़क पर जाम लगा देखकर पुलिसकर्मियों से बीच रास्ते में खड़ी जीप हटाने का निवेदन किया. इस पर पुलिसकर्मी उन पर रौब गांठने लगे. प्रतिवाद करने पर मारने-पीटने पर उतारू हो गए और थाने में ले जाकर बिठा दिया, जहां उनकी हालत बिगड़ने पर पहले गोवर्धन के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, लेकिन वहां स्थिति न संभलने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. 

उबर कैब में यात्रा के दौरान महिला पत्रकार के साथ हुई मारपीट, जांच में जुटी पुलिस


इस घटना से जिले के पत्रकारों में रोष फैल गया और सभी ने आरोपी पुलिसकर्मियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की मांग की, जिस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने एसपी (देहात) आदित्य कुमार शुक्ला के नेतृत्व में उपाधीक्षक (गोवर्धन) विजय शंकर मिश्र, उपाधीक्षक (शहर) राकेश कुमार व अभिसूचना निरीक्षक केपी कौशिक की एक टीम जांच के लिए भेजकर तुरंत रिपोर्ट मंगवाई. 

 बीजेपी के कार्यक्रमों को कवर करते हुए हेलमेट पहने नजर आ रहे पत्रकार!

टिप्पणियां

एसएसपी ने चौकी इंचार्ज राजेन्द्र सिंह एवं उप निरीक्षक यशपाल सिंह, सिपाही धर्मेन्द्र कुमार, रोहित कुमार के खिलाफ प्रतिकूल रिपोर्ट मिलने पर चारों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए उनके गैर जोन ट्रांसफर किए जाने को भी पत्र पुलिस महानिदेशक को प्रेषित करने के आदेश दिए हैं.  बुधवार सुबह वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर पत्रकार को देखने जिला अस्पताल पहुंचे और पुलिस की कार्रवाई पर खेद व्यक्त करते हुए कहा कि यह गलत हुआ है. उन्होंने कहा कि कानून सबके लिए बराबर है. जो भी गलत करेगा, वह अवश्य दंडित होगा.

वीडियो: रिपोर्टिंग करने गए पत्रकार को रेलवे पुलिस ने पीटा
https://khabar.ndtv.com/video/show/news/grp-thrashed-journalist-for-reporting-in-shamli-up-518243



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement