NDTV Khabar

यूपी : फीस जमा करने में हुई देरी तो बच्चे को स्कूल में चार घंटे तक 'बंधक' बनाए रखा

यूपी के बुलंदशहर में स्थित अशोक पब्लिक स्कूल में एक चार वर्षीय बच्चे को स्कूल प्रशासन ने इसलिए चार घंटे तक बंधक बनाकर रखा, क्योंकि उसके पिता ने फीस भरने में देरी कर दी.

170 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी : फीस जमा करने में हुई देरी तो बच्चे को स्कूल में चार घंटे तक 'बंधक' बनाए रखा

खास बातें

  1. चार वर्षीय बच्चे को फीस के लिए स्कूल में बनाया बंधक
  2. बुलंदशहर के अशोक पब्लिक स्कूल की है घटना
  3. पुलिस ने स्कूल के मालिक और प्राचार्य के खिलाफ किया मामला दर्ज
बुलंदशहर: स्कूल को शिक्षा का मंदिर कहा जाता है, जहां बच्चे शिक्षा ग्रहण कर देश और प्रदेश का नाम रोशन करते हैं. लेकिन अगर किसी स्कूल में फीस जमा करने देरी होने के बाद किसी गरीब बच्चे को उसकी क्लास में चार घंटे तक बांधकर रखा जाए, तो इसे क्या कहा जाएगा. ऐसी ही घटना यूपी के बुलंदशहर से आ रही है, जो शिक्षा के मंदिर को शर्मसार कर रही है.

यह भी पढ़ें: गुरुग्राम स्कूल में बच्चे की हत्या: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और हरियाणा सरकार को भेजा नोटिस

दरअसल, यूपी के बुलंदशहर में स्थित अशोक पब्लिक स्कूल में एक चार वर्षीय बच्चे को स्कूल प्रशासन ने इसलिए चार घंटे तक बंधक बनाकर रखा, क्योंकि उसके पिता ने फीस भरने में देरी कर दी. स्कूल प्रशासन ने उस मासूम को बंधक बनाते समय एक बार भी नहीं सोचा कि आखिर उस पर क्या बीत रही रही होगी. इस घटना से यह साफ जाहिर हो रहा है कि स्कूल प्रशासन में थोड़ी सी भी करूणा नहीं है, उसे मतलब है तो सिर्फ फीस से.

यह भी पढ़ें: गुरुग्राम में बच्चे की हत्या के मामले में बड़ी कार्रवाई, रयान स्कूल के दो सीनियर अधिकारी गिरफ्तार

बहरहाल, पुलिस ने इस मामले पर गंभीरता दिखाते हुए स्कूल मालिक और प्राचार्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस ने इस मामले के संबंध में बताया कि बुलंदशहर स्थित अशोक पब्लिक स्कूल के मालिक अशोक सैनी और प्राचार्य एन भानू के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 342 और 507 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

VIDEO:एसआईटी ने गुरुग्राम के डीसी को सौंपी रिपोर्ट, कई खामियां उजागर
पुलिस अधीक्षक वी के तिवारी ने बताया कि घटना के दोनों आरोपी फरार हो गए है. लड़के के अभिभावकों की ओर से दर्ज करायी गई शिकायत के अनुसार, उसे स्कूल फीस के भुगतान में देरी के लिए कक्षा में बंद किया गया था.
(इनपुट भाषा से)
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement