NDTV Khabar

इन अधिकारियों के आगे तो नीरव मोदी भी फेल, करोड़ों डकारने के लिए हैरान कर देने वाला फर्जीवाड़ा

मिली जानकारी के मुताबिक 527 किसानों से उत्तर प्रदेश सरकार ने 12,000 क्विंटल उड़द दाल ख़रीदी वो भी 54 रुपये प्रति किलो की कीमत पर जो बाज़ार के भाव से कहीं ज़्यादा था. कर्ज़ में दबे किसानों के लिए इससे अच्छी बात क्या हो सकती थी. इस साल जनवरी में जिन सरकारी अफ़सरों को किसानों से उड़द दाल ख़रीदन की जिम्मेदारी दी गई थी. उन्होंने कागजों पर पर 527 फर्जी किसानों के नाम दर्ज कर लिए और दो करोड़ रुपये डकार डाले दे. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इन अधिकारियों के आगे तो नीरव मोदी भी फेल, करोड़ों डकारने के लिए हैरान कर देने वाला फर्जीवाड़ा

इस घोटाले पर एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है

लखनऊ: देश में  नीरव मोदी या विजय माल्या जैसी ही नहीं कई और भी हैं जो देश की जनता और पूरी व्यवस्था को धोखा देकर करोड़ों का घोटाला कर रहे हैं. उत्तर प्रदेश के बरेली में जो मामला सामने आया है उसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे. एक फर्जीवाड़ा किसानों के साथ सामने आया है जिसमें फसल की कीमत उन्हें देने के नाम पर कागज़ तो बने लेकिन उसमें भी अधिकारी पैसा खा रहे थे.  मिली जानकारी के मुताबिक 527 किसानों से उत्तर प्रदेश सरकार ने 12,000 क्विंटल उड़द दाल ख़रीदी वो भी 54 रुपये प्रति किलो की कीमत पर जो बाज़ार के भाव से कहीं ज़्यादा था. कर्ज़ में दबे किसानों के लिए इससे अच्छी बात क्या हो सकती थी. इस साल जनवरी में जिन सरकारी अफ़सरों को किसानों से उड़द दाल ख़रीदने की जिम्मेदारी दी गई थी. उन्होंने कागजों पर पर 527 फर्जी किसानों के नाम दर्ज कर लिए और दो करोड़ रुपये डकार डाले दे. 

PNB घोटाला: 3 आरोपियों को CBI कस्टडी में भेजा गया, और अधिकारी भी संदेह के घेरे में

टिप्पणियां
कैसे हुआ घोटाला
स्थानीय सहकारी विभाग को किसानों से सरकारी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर दाल ख़रीदनी थी इसके लिए उड़द दाल के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य राज्य सरकार ने 54 रुपये प्रति किलो तय किया लेकिन ज़िले के किसानों से दाल ख़रीदने के बजाए अफ़सरों ने मंडी जाकर बिचौलियों से सांठ-गांठ की और 12,000 क्विंटल उड़द दाल 36 रुपये प्रति किलो के भाव पर ख़रीदी. लेकिन उनके सारे मंसूबे धरे के धरे रह गए जब एक वरिष्ठ ज़िला अधिकारी ने 2 करोड़ से ज़्यादा भुगतान करने से पहले बिक्री के दस्तावेज़ जांचने का फ़ैसला किया.

वीडियो : फर्जीवाड़े की पूरी रिपोर्ट

एफआईआर दर्ज
राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि भ्रष्ट अफ़सरों ने किसानों में जानकारी की कमी और बाज़ार में सस्ते दाम में उड़द की दाल उपलब्ध होने का फ़ायदा उठाया. सरकार ने उत्तर प्रदेश सहकारी संघ के चार अफ़सरों और दो बिचौलियों के ख़िलाफ़ ग़बन और रिकार्डों में धांधली के लिए एफ़आइआर दर्ज करवाई है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement