Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

उत्तर प्रदेश: गाय की निकली शवयात्रा, हुआ अंतिम संस्कार

महोबा जिले में किसान बलराम मिश्रा के घर 20 साल पहले जन्माष्टमी के दिन जन्मी गाय का नाम 'कृष्णा' रखा गया था. गाय 10वीं बार गर्भवती थी और उसका बच्चा सोमवार को गर्भ में ही मर गया. इस कारण तमाम प्रयासों के बाद भी गाय की मौत हो गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर प्रदेश: गाय की निकली शवयात्रा, हुआ अंतिम संस्कार

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. मातमी माहौल में एक किसान ने अपनी पालतू गाय का अंतिम संस्कार किया
  2. अब उसकी अस्थियां संगम में प्रवाहित कर त्रयोदशी करने की तैयारी कर रहा है
  3. जन्माष्टमी के दिन जन्मी गाय का नाम 'कृष्णा' रखा गया था
नई दिल्ली:

महोबा जिले के जैतपुर थाना क्षेत्र के मुढारी गांव में मंगलवार को मातमी माहौल में एक किसान ने अपनी पालतू गाय का अंतिम संस्कार किया और अब उसकी अस्थियां संगम में प्रवाहित कर त्रयोदशी करने की तैयारी कर रहा है. उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड़ में गौवंशों को आवारा छोड़ना एक रिवाज बनता जा रहा है. वहीं महोबा जिले में किसान बलराम मिश्रा के घर 20 साल पहले जन्माष्टमी के दिन जन्मी गाय का नाम 'कृष्णा' रखा गया था. गाय 10वीं बार गर्भवती थी और उसका बच्चा सोमवार को गर्भ में ही मर गया. इस कारण तमाम प्रयासों के बाद भी गाय की मौत हो गई.

प्रियंका गांधी की स्कूटी का चालान भरने के लिए कांग्रेसियों ने सड़क पर मांगा चंदा

इसके बाद किसान ने गाय का विधिवत अंतिम संस्कार किया. उसके शव को पहले लाल रंग के कपड़े ढंका गया और फिर उसे बैलगाड़ी पर रखकर बैंडबाजे से मातमी धुन बजाते हुए उसकी शवयात्रा निकाली गई. शव यात्रा में गांव के कई सारे लोग शामिल हुए. बाद में वैदिक मंत्रों और हिंदू रीत-रिवाज के साथ गाय का अंतिम संस्कार किया गया. गौपालक किसान बलराम मिश्रा ने बताया, 'कृष्णा (गाय) हमारे परिवार के लिए 'मां' जैसी थी. खूंटे में कभी बांधा नहीं और न ही वह घर से कभी जंगल चारा चरने गई. दिनभर दरवाजे पर बैठी रहती थी. कृष्णा नाम लेते ही वह पीछे-पीछे चल देती थी. गाय नहीं, हमारी मां का निधन हुआ है. इसलिए परिवारिक सदस्य की भांति उसका अंतिम संस्कार किया गया है.'


आईआईटी कानपुर जांच करेगा कि क्या फैज अहमद फैज की नज़्म हिंदू विरोधी है?

किसान ने कहा, 'कृष्णा की अस्थियां (प्रतीक स्वरूप गाय का नाखून यानी खुर) प्रयागराज (संगम) में प्रवाहित करने के बाद उसके तेरहवीं (त्रयोदशी) संस्कार में ब्राह्मण/कन्या भोज के अलावा सभी ग्रामीणों को भोज के लिए आमंत्रित करने की योजना है.' इसके साथ ही किसान ने कहा कि गौ माता की मौत पर किया जा रहा यह कार्यक्रम उन तमाम लोगों के लिए एक सीख है, जो गाय का दूध तो निकाल लेते हैं और दूध न देने या उम्रदराज होने की दशा में उसे आवारा घूमने के लिए छोड़ देते हैं.

टिप्पणियां

VIDEO: एमपी: गाय टैक्स लगाने पर विचार कर रही सरकार



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. UP News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... डोनाल्ड ट्रंप के डिनर में पहुंचा बिन बुलाया मेहमान, फिर यूं मचाया उधम, एआर रहमान ने शेयर किया Video

Advertisement