NDTV Khabar

वाराणसी के 'आनंद मंदिर' सिनेमा हॉल ने टैक्स छूट का फायदा दिया दर्शकों को

उत्तर प्रदेश में सिनेमा इंडस्ट्री से मनोरंजन कर के रूप में 66 फीसदी टैक्स वसूला जाता है. जीएसटी के बाद से यह टैक्स 18 फीसदी हो जाएगा.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वाराणसी के 'आनंद मंदिर' सिनेमा हॉल ने टैक्स छूट का फायदा दिया दर्शकों को

आनंद मंदिर सिनेमा हॉल में केवल भोजपुरी सिनेमा का ही प्रदर्शन होता है

खास बातें

  1. बनारस के 'आनंद मंदिर' में केवल दिखाई जाती हैं भोजपुरी फिल्में
  2. उत्तर प्रदेश में मनोरंजन कर के रूप में 66 प्रतिशत टैक्स लिया जाता था
  3. जीएसटी लागू होने के बाद यह कर महज 18 फीसदी हो जाएगा
वाराणसी : जीएसटी को लेकर भले ही देशभर में विरोध-प्रदर्शन हो रहे हों, दावे किए जा रहे हों कि चीजें महंगी हो जाएंगी, लोगों का मनोरंजन भी मुश्किल में पड़ जाएगा, लेकिन इससे उलट वाराणसी के एक सिनेमा हॉल ने जीएसटी से मिलने वाली टैक्स की छूट का फायदा सीधे दर्शकों को देकर नई पेशकश की है. सिनेमा हॉल प्रबंधन ने टिकटों के दामों में कमी कर दी है.

दावे किए जा रहे थे कि जीएसटी लागू होने ने फिल्म इंडस्ट्री की कमर टूट जाएगी, लेकिन वाराणसी की सिनेमा इंडस्ट्री सरकार के इस फैसले से खुश है. खासकर भोजपुरी सिनेमा की तो बल्ले बल्ले हो गई है.  क्योंकि अब तक उत्तर प्रदेश में मनोरंजन कर के रूप में लगभग 66 प्रतिशत टैक्स वसूला जाता था, जो कि कम आय वाले दर्शकों के लिये बहुत ज़्यादा था.

इसको कम करने के लिए समय-समय पर मांग भी उठती रही थी लेकिन किसी भी सरकार में ये टैक्स काम नहीं हुआ. अब जीएसटी में यह टैक्स 66 प्रतिशत से घट कर 18 प्रतिशत हो गया है. लगभग एकतिहाई से ज़्यादा टैक्स के हट जाने से सिनेमा उद्योग से जुड़े लोग बड़ी राहत महसूस कर रहे हैं. ये राहत भोजपुरी सिनेमा में अग्रणी वाराणसी का 'आनन्द मंदिर' को भी मिली है. लिहाजा उसने उतना ही बड़ा फैसला लिया है और ये पूरी राहत अपने दर्शकों को देने का ऐलान कर दिया है.   

इस सिनेमा हाल में टिकट की दर पहले भी बहुत काम थी अब जीएसटी में टैक्स की कटौती के बाद, सिनेमा मालिकों की तरफ से छूट में मिला पूरा टैक्स दर्शकों को देने से अब टिकट की कीमतें और भी कम हो गई हैं.

नई दरों के तहत वर्तमान में  70 रुपये का टिकट घटकर 50 रुपये, 60 रुपये का टिकट घटकर 40 और 50 रुपये वाला टिकट 35 रुपये का हो जाएगा. सिनेमा प्रबंधन का विश्वास है कि टिकट दर में इस कमी से भोजपुरी फ़िल्म के दर्शकों को बड़ी राहत मिलेगी और दर्शको की संख्या बढ़ेगी जिसका पूरा लाभ भोजपुरी फ़िल्म उद्योग को होगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement