NDTV Khabar

हापुड़ लिंचिंग मामला: मेरठ रेंज के IG की निगरानी में हो मामले की जांच- SC

कोर्ट ने IG को कहा कि वह लिंचिंग को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के तहत कार्रवाई करेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हापुड़ लिंचिंग मामला: मेरठ रेंज के IG की निगरानी में हो मामले की जांच- SC

सुप्रीम कोर्ट ने लिंचिंग मामले में दिया आदेश

नई दिल्ली: हापुड़ लिंचिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने विशेष आदेश जारी किया है. कोर्ट ने अपने आदेश में इस मामले की जांच मेरठ रेंज के IG की निगरानी में कराने की बात कही है. कोर्ट ने IG को कहा कि वह लिंचिंग को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के तहत कार्रवाई करेंगे. गौरतलब है कि कोर्ट द्वारा जारी गाइडलाइन में कहा गया है कि जो पुलिस अफसर कार्रवाई नहीं करते उनपर एक्शन लिया जाए. वहीं इस मामले में आईजी मेरठ जोन ने अपनी रिपोर्ट सील बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है. इस मामले में पीड़ित समयद्दीन की ओर से पेश हुई वकील वृंदा ग्रोवर ने कोर्ट को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद मजिस्ट्रेट ने सीआरपीसी की धारा 164 के तहत 31 अगस्त को समयद्दीन का बयान दर्ज किया है.

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने मॉब लिचिंग मामले में अवमानना याचिका पर राजस्थान सरकार से जवाब मांगा

वहीं यूपी पुलिस ने कोर्ट को बताया कि अभी तक इस मामले में 11 आरोपियों में से दस की गिरफ्तारी हो चुकी है. जबकि एक आरोपी जो अभी भी फरार है उसे भगोड़ा घोषित करने की कार्रवाई चल रही है. इस मामले में याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया कि हम मामले की जांच उत्तर-प्रदेश से बाहर चाहते हैं. साथ ही इस मामले की जांच एसआईटी को दी जाए. हालांकि इस मामले मं उत्तर-प्रदेश सरकार ने कहा कि वह 60 दिनों के भीतर अपनी जांच पूरी कर लेंगे. अब इस मामले में अगली सुनवाई दो हफ्ते बाद होगी.

यह भी पढ़ें: मॉब लिंचिंग पर बोलीं कंगना रनौत, गैरकानूनी ढंग से किसी को भी 'सज़ा' देना गलत

गौरतलब है कि NDTV इंडिया के स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर हापुड़ में लिंचिंग के पीड़ित और अहम गवाह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की थी. पीड़ित समयुद्दीन ने याचिका दायर कर आरोपियों की ज़मानत रद्द करने की मांग की गई थी. याचिका में कहा गया है कि मजिस्ट्रेट के सामने गवाह का बयान दर्ज हो और आरोपियों की शिनाख़्त परेड कराई जाए.

टिप्पणियां
VIDEO: आवारा पशुओं से किसान परेशान.

खास बात यह है कि आरोपी ने ख़ुफ़िया कैमरे पर लिंचिंग में शामिल होने की बात क़बूली थी साथ ही उसने ये भी बताया था कि किस तरह कोर्ट में ग़लत बयानी कर उसे ज़मानत मिल गई. पड़ताल में पुलिस जांच में भी कई खामियां नज़र आई थीं. पुलिस एफ़आईआर में इसे रोड रेज का मामला बताया गया था. 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement