हापुड़ रेप: 10 हजार रुपए के लिए बेची गई युवती, पीड़िता को भेजा करता था लेनदारों के घर, वहां होता था गैंगरेप

मामले में दिल्ली महिला आयोग के दखल के बाद हापुड़ की बाबूगढ़ पुलिस ने सरपंच समेत 14 लोगों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार का नामजद मुकदमा दर्ज किया है.

हापुड़ रेप: 10 हजार रुपए के लिए बेची गई युवती, पीड़िता को भेजा करता था लेनदारों के घर, वहां होता था गैंगरेप

पुलिस का कहना है कि मामला संदिग्ध है और अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेरठ:

Hapur Rape Case: उत्तर प्रदेश में मेरठ मंडल के हापुड़ जिले में 29 साल की विवाहिता ने अपने साथ सामूहिक बलात्कार किए जाने पर कथित तौर पर पुलिस की ओर से कार्रवाई नहीं करने से आहत होकर खुद को आग लगा ली थी. मामले में दिल्ली महिला आयोग (Delhi Commission for Women) के दखल के बाद हापुड़ की बाबूगढ़ पुलिस ने सरपंच समेत 14 लोगों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार का नामजद मुकदमा दर्ज किया है. बहरहाल, पुलिस का कहना है कि मामला संदिग्ध है और अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है.

हापुड़ के पुलिस अधीक्षक (एसपी) यशवीर सिंह ने बताया कि महिला खुद जली या उसे जलाया गया, यह जांच का विषय है. बता दें, महिला ने 28 अप्रैल को खुद को आग के हवाले कर जान देने की कोशिश की थी. वह 80 फीसदी जल गई है और गाजियाबाद के एक अस्पताल में भर्ती है. हालांकि, सिंह ने इस बात से इनकार किया कि महिला ने इसलिए आत्मदाह की कोशिश की क्योंकि पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया.

अलवर गैंगरेप केस : पीड़िता का आरोप, कार्रवाई के लिए चुनाव बीतने का इंतजार करती रही पुलिस

एसपी ने यह भी कहा कि महिला की शिकायत पर पूर्व में भी कई बार जांच हो चुकी है, लेकिन घटना की पुष्टि नहीं हो सकी. एसपी के अनुसार, महिला अपने साथ उत्पीड़न और सामूहिक बलात्कार की घटना को पांच साल पुरानी बता रही है. सभी घटनाएं अलग-अलग समय और अलग-अलग स्थानों की बताई गई हैं. उन्होंने बताया कि पुलिस ने घटना के संबंध में गांव के लोगों से भी बात की है, लेकिन किसी ने भी घटना की पुष्टि नहीं की. बहरहाल, सिंह ने कहा कि पीड़िता की शिकायत के आधार पर बाबूगढ़ थाना पुलिस ने 14 लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर घटना की जांच शुरू कर दी है.

भोपाल: 12 साल की बच्ची से रेप के बाद पत्थर से सिर कुचलकर हत्या, प्रज्ञा ठाकुर बोलीं- हम लेंगे बदला

गौरतलब है कि दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने मामले का संज्ञान लेकर 11 मई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा था और महिला के लिए न्याय की मांग की थी. उन्होंने पत्र में कहा, ‘पीड़िता को हापुड़ में पुलिस के हाथों असहनीय उत्पीड़न का सामना करना पड़ा, बार-बार शिकायत करने पर भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया. यूपी उप्र पुलिस के संवेदनहीन और शर्मनाक रवैये की वजह से पीड़िता ने खुद को आग के हवाले कर लिया.'

रिश्ते शर्मसार: मां की मौत के बाद पिता कर रहा था आठ साल की बेटी के साथ रेप, पड़ोसियों ने किया खुलासा

पत्र के अनुसार पीड़िता को कथित रूप से 10 हजार रुपये के लिए हापुड़ के एक शख्स को बेच दिया गया था. उस शख्स ने कई लोगों से कर्ज लिया हुआ था और बदले में वह पीड़िता को बिना मेहनताना के उनके यहां घरेलू काम करने के लिए मजबूर करता था. वहां पीड़िता के साथ कई बार उत्पीड़न और सामूहिक बलात्कार हुआ.

Newsbeep

(इनपुट- भाषा)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मुंबई: 21 साल की मॉडल के साथ रेप करने के मामले में डॉक्टर गिरफ्तार, TV सीरियल में काम करने के दौरान हुई थी मुलाकात