NDTV Khabar

आईआईटी कानपुर का रैगिंग के खिलाफ कड़ा कदम, 22 विद्यार्थी किए गए सस्पेंड

IIT कानपुर के उपनिदेशक डॉ मनींद्र अग्रवाल ने बताया कि 16 विद्यार्थियों को तीन साल के लिए सस्पेंड किया गया है, क्योंकि उनके खिलाफ रैगिंग के आरोप 'काफी गंभीर' थे. शेष छह विद्यार्थियों को एक साल के लिए सस्पेंड किया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आईआईटी कानपुर का रैगिंग के खिलाफ कड़ा कदम, 22 विद्यार्थी किए गए सस्पेंड

आईआईटी कानपुर ने रैगिंग के आरोपों में 22 विद्यार्थियों को एक से तीन साल तक के लिए सस्पेंड कर दिया है...

कानपुर: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), कानपुर ने रैगिंग के आरोपों में अपने 22 विद्यार्थियों को एक से तीन साल तक के लिए सस्पेंड कर दिया है.

यह भी पढ़ें : रैगिंग करने पर तेजपुर मेडिकल कॉलेज का छात्र निष्कासित

संस्थान के उपनिदेशक डॉ मनींद्र अग्रवाल ने जानकारी दी कि इन विद्यार्थियों को सस्पेंड करने का फैसला सोमवार को आईआईटी सीनेट द्वारा लिया गया था. डॉ मनींद्र अग्रवाल ने पत्रकारों को बताया कि 16 विद्यार्थियों को तीन साल के लिए सस्पेंड किया गया है, क्योंकि उनके खिलाफ रैगिंग के आरोप 'काफी गंभीर' थे. शेष छह विद्यार्थियों को एक साल के लिए सस्पेंड किया गया है.

यह भी पढ़ें : दादर में रैगिंग के खिलाफ आर्किटेक्चर की छात्रा ने दर्ज कराई शिकायत

डॉ अग्रवाल ने जानकारी दी कि सस्पेंड किए गए इन विद्यार्थियों को सस्पेंशन अवधि के दौरान मर्सी अपील दायर करने का अधिकार नहीं होगा. यदि वे चाहें, तो सस्पेंशन अवधि समाप्त होने के बाद अपील दायर कर सकते हैं, और किसी कोर्स में दाखिला भी ले सकते हैं.

VIDEO: नोएडा के DPS स्कूल के हॉस्टल में रैगिंग, जूनियरों की रॉड से पिटाई


टिप्पणियां
आईआईटी, कानपुर के उपनिदेशक ने बताया कि आईआईटी सीनेट ने इन विद्यार्थियों को उनका पक्ष रखने का मौका देने के बाद सोमवार को उन्हें सस्पेंड करने का फैसला किया. आरोप है कि इन विद्यार्थियों ने 19 और 20 अगस्त की रात को अपने जूनियर विद्यार्थियों की रैगिंग की थी.

(इनपुट PTI से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement