NDTV Khabar

अब उत्तर प्रदेश में ग्रामीणों ने बाघिन को पहले ट्रैक्टर से कुचला... फिर लाठियों से पीट-पीटकर मार डाला

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में एक बाघिन द्वारा एक शख्स को चीर-फाड़ देने, और अस्पताल में इलाज के दौरान उस शख्स की मौत हो जाने के बाद रविवार को ग्रामीणों ने बाघिन को पीट-पीटकर मार डाला है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब उत्तर प्रदेश में ग्रामीणों ने बाघिन को पहले ट्रैक्टर से कुचला... फिर लाठियों से पीट-पीटकर मार डाला

प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में एक बाघिन द्वारा एक शख्स को चीर-फाड़ देने, और अस्पताल में इलाज के दौरान उस शख्स की मौत हो जाने के बाद रविवार को ग्रामीणों ने बाघिन को पीट-पीटकर मार डाला है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र के एक जंगल में पिछले दो साल के दौरान 13 इंसानों की जान ले चुकी एक अन्य बाघिन 'अवनि' को भी हाल ही में मारा गया, जिस पर काफी विवाद हुआ.

नरभक्षी बाघिन का शिकार : कैमरे, ड्रोन, हैंग ग्लाइडर, ट्रैकर्स, शूटर और 200 लोग लगे 'अवनि' को मारने में

बाघिन द्वारा ग्रामीण पर हमला किए जाने के बाद गुस्साए ग्रामीण दुधवा टाइगर रिज़र्व के कोर एरिया में घुस आए, और उन्होंने कथित रूप से फॉरेस्ट गार्डों को पीटा, उनका ट्रैक्टर छीन लिया, और 10-वर्षीय बाघिन को देखते ही न सिर्फ कुचल डाला, बल्कि उसे लाठियों से भी पीटा.

ये सभी ग्रामीण प्रोटेक्टेड टाइगर रिज़र्व के बफर ज़ोन में बसे एक गांव के निवासी थे. फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के अधिकारियों का कहना है कि बाघिन ने पिछले 10 साल में कभी किसी इंसान पर हमला नहीं किया. वन अधिकारियों ने पुलिस से ग्रामीणों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भी कहा है, जिन्होंने लुप्तप्राय प्रजाति के पशु को मार डाला.

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के पास तेंदुआ लड़की को घर से खींचकर ले गया

ग्रामीणों का कहना है कि बाघिन पिछले दो सप्ताह से उनके पालतू पशुओं पर हमले कर रही थी, और वे बाघिन से डरे हुए थे. उन्होंने बताया कि उन्होंने वन अधिकारियों को बाघिन के परेशान करने वाले रवैये के बारे में कई बार बताया था.

एक ही सप्ताह के भीतर दो बाघिनों को मार दिए जाने के बाद माना जा रहा है कि भारत में पशु संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों पर बहस छिड़ सकती है. रविवार को केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी भी 'अवनि' की 'नृशंस हत्या' को लेकर BJP-नीत महाराष्ट्र सरकार पर बरसीं. उन्होंने जल्द से जल्द इस मुद्दे पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से चर्चा करने की भी बात कही.

टिप्पणियां
इंदौर के प्राणि संग्रहालय में बाघ के दो शावकों ने लिया जन्म

नेशनल टाइगर कन्ज़र्वेशन अथॉरिटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2014 में करवाई गई राष्ट्रव्यापी गणना के बाद भारत में बाघों की अनुमानित जनसंख्या 2,226 है. राज्य के वन विभागों, गैर-लाभकारी समूहों तथा वाइल्डलाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ मिलकर अथॉरिटी हर चार साल में बाघों का राष्ट्रीय स्तर पर आकलन करती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement