Hindi news home page

आयकर विभाग को उप्र के अधिकारी के परिसरों से मिले 10 करोड़ रुपये नकद, 10 किग्रा सोना

ईमेल करें
टिप्पणियां
आयकर विभाग को उप्र के अधिकारी के परिसरों से मिले 10 करोड़ रुपये नकद, 10 किग्रा सोना

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. विभाग ने सुनीता वर्मा के घर पर छापा मारा.
  2. नए करेंसी में अब तक की सबसे बड़ी 10 करोड़ कैश मिले.
  3. शताब्दी ट्रैवल्स के मालिक बीजेपी नेता चंद्र कुमार के यहां भी छापा मारा
लखनऊ: आयकर विभाग ने उत्तर प्रदेश के एक वरिष्ठ नौकरशाह के परिसरों की तलाशी के बाद आज 10 करोड़ रुपये नकद और तकरीबन 10 किलोग्राम सोना बरामद किया. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आयकर अधिकारियों ने यहां पास में नोएडा में नोएडा प्राधिकरण के एक पूर्व ओएसडी के कम से कम चार परिसरों पर भी छापेमारी की है. यह विभाग की सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कालेधन की कार्रवाई का हिस्सा है.

अधिकारी ने कहा कि आयकर टीमों ने राज्य बिक्री कर विभाग के अतिरिक्त आयुक्त के नोएडा आवास पर तड़के तलाशी शुरू की और 10 करोड़ रुपये नकद और 10 किलोग्राम सोना बरामद किया. उन्होंने कहा कि अधिकारी फिलहाल कानपुर में तैनात है.

नोएडा में दूसरी तलाशी में, विभाग ने कुछ कागजात बरामद किए हैं और नोएडा प्राधिकरण के पूर्व विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) से संबंधित विभिन्न परिसरों और बैंक लॉकरों की तलाशी ले रहा है.

विभाग ने नौकरशाहों और सरकारी अधिकारियों के खिलाफ कुछ दिन पहले अभियान शुरू किया था और अब तक 20 करोड़ रूपये से अधिक की अघोषित आय का पता लगा चुका है. विभाग ने पिछले तीन दिनों में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चार नौकरशाहों के यहां तलाशी ली है.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि पिछले दो दिनों में इन राज्यों के चार सरकारी अधिकारियों के यहां छापेमारी की गई है जिसमें देहरादून में उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड (यूपीआरएनएन) के एक महाप्रबंधक यहां हुई भी छापामारी शामिल है. यह छापा कथित रूप से आधिकारिक पद का दुरूपयोग और कर चोरी के आरोपों के चलते मारा गया था.

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले में एक स्थानीय निकाय के अध्यक्ष के खिलाफ एक अन्य तलाशी अभियान में आयकर विभाग ने शुरूआती अनुमान के आधार पर करीब 10 करोड़ रूपये की कर चोरी पकड़ी है. अधिकारी ने बताया कि इस अध्यक्ष के दो पेट्रोल पंप और एक गैस एजेंसी है और यह पाया गया है कि वह विकास अनुदान को कथित तौर पर निजी लाभों के लिए इस्तेमाल कर रहा था.

विभाग ने नोएडा में एक वरिष्ठ अधिकारी के परिसरों पर भी छापेमारी की. इसके अलावा आयकर विभाग के अधिकारियों ने कानपुर स्थित उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन विभाग के एक अधिकारी के यहां भी तलाशी ली है.

अधिकारी ने कहा कि नोएडा के अधिकारी ने बेहिसाब नकद का इस्तेमाल दो करोड़ रूपये से ज्यादा की अचल संपत्तियों को अपनी पत्नी के नाम पर खरीदने के लिए किया.

अधिकारी ने कहा कि कानपुर के अधिकारी के खिलाफ तफ्तीश जारी है. अधिकारी ने कहा कि विभाग द्वारा इस तरह की कार्रवाई कुछ और नौकरशाहों के खिलाफ की जा सकती है जो कुछ वक्त से उसके रडार पर हैं.

विभाग ने कर चोरी रोकने के लिए देशव्यापी अभियान के तौर पर पिछले 15 दिनों में 540 करोड़ रूपये से अधिक का कालाधन पकड़ा है. यह कार्रवाई 31 मार्च को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के बंद होने के बाद हुई हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement