NDTV Khabar

कमलेश तिवारी हत्याकांड में मिले अहम सुराग, परिजनों ने की सीएम योगी से मुलाकात

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने हाल में लखनऊ में मारे गये हिन्‍दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी के परिजनों से रविवार को मुलाकात की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. कमलेश तिवारी हत्याकांड में मिले अहम सुराग
  2. परिजनों ने की सीएम योगी से मुलाकात
  3. पीड़ित परिवार को पूरी मदद का आश्‍वासन
यूपी :

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने हाल में लखनऊ में मारे गये हिन्‍दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) के परिजनों से रविवार को मुलाकात की. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुख्‍यमंत्री ने अपने आवास पर तिवारी की मां कुसुमा, पत्‍नी किरण तिवारी और उनके बेटे से मुलाकात की. इस दौरान उन्‍होंने पीड़ित परिवार को पूरी मदद का आश्‍वासन देते हुए कहा कि सरकार इस गम्‍भीर मामले की गहराई से जांच कर रही है और दोषी लोगों को कतई बख्‍शा नहीं जाएगा. सूत्रों के मुताबिक पीड़ित परिवार ने तिवारी के बेटे को सरकारी नौकरी देने, परिवार को सुरक्षा देने, सुरक्षा के लिहाज से परिजन को असलहों के लाइसेंस देने, उनके मुहल्‍ले का नाम तिवारी के नाम पर करने, लखनऊ में तिवारी की मूर्ति स्‍थापित करने और पूरे मामले की सुनवाई फास्‍ट ट्रैक कोर्ट में करने की मांग की. 

कमलेश तिवारी हत्याकांड: बॉलीवुड एक्टर ने यूपी पुलिस पर खड़े किए सवाल, कहा- जब उनकी मां और बेटा कह रहे हैं तो...


मुख्‍यमंत्री ने उन्‍हें समुचित कार्रवाई का आश्‍वासन दिया. मुख्‍यमंत्री से मुलाकात के बाद तिवारी की पत्‍नी किरण ने बताया,‘‘योगी ने हर सम्‍भव कार्रवाई का आश्‍वासन दिया है. हम उनसे हुई मुलाकात से संतुष्‍ट हैं. हमारी मांग थी कि हत्‍यारों को फांसी की सजा दी जाए.''

तिवारी की मां कुसुमा ने कहा कि उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री से कहा कि उनके बेटे को न्‍याय चाहिये और दोषियों को कड़ी सजा दी जाए. योगी ने उन्‍हें इसका भरोसा दिलाया है. भरोसा देकर मुख्‍यमंत्री ने बहुत कुछ दे दिया. इस बीच, हत्‍याकांड की तफ्तीश में पता चला है कि संदिग्‍ध हत्‍यारोपी नाका हिंडोला क्षेत्र के ही एक होटल में ठहरे थे.

पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि होटल के कर्मियों के मुताबिक दोनों ने अपना नाम शेख अशफाकुल हुसैन और मुईनुद्दीन पठान बताया था. हत्‍याकांड वाले दिन दोनों भगवा कुर्ते पहनकर होटल से निकले थे और उनके हाथ में एक मिठाई का डिब्‍बा था.

कमलेश तिवारी के बेटे को योगी सरकार ने दिए सुरक्षा के लिए हथियार, सरकारी नौकरी और घर देने का भी किया वादा

उन्‍होंने बताया कि वे लोग 17 अक्‍टूबर को होटल आये थे और 18 तारीख की दोपहर में वे चले गये थे. उनके कमरे के बेड पर भगवा रंग का कुर्ता पड़ा था, उस पर खून के निशान हैं. मौके पर मिले तौलिये में भी खून लगा है. एक नये मोबाइल का डिब्‍बा भी मौके से मिला है. विवेचना के क्रम में यह एक बड़ी उपलब्धि है. पुलिस जल्‍द ही हत्‍यारों तक पहुंच जाएगी. 

टिप्पणियां

गौरतलब है कि हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की शुक्रवार को नाका हिंडोला स्थित खुर्शेदबाग इलाके में उनके घर के अंदर गला रेतकर और गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी. इस हत्याकांड के सिलसिले में बिजनौर निवासी आरोपियों मुफ्ती नईम काजमी और मौलाना अनवारुल हक के साथ-साथ गुजरात स्थित सूरत के रहने वाले फैजान यूनुस, मोहसिन शेख और राशिद अहमद को हिरासत में लेकर पूछताछ की गयी है. मामले की जांच के लिये एसआईटी का गठन किया गया है. 

कमलेश तिवारी हत्याकांड: यूपी पुलिस ने मौलाना समेत 3 लोगों को हिरासत में लिया​



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement