उत्तर प्रदेश के 51 मेडिकल कॉलेजों में स्थापित होंगे कोविद-19 अस्पताल

बयान के अनुसार 51 मेडिकल कॉलेजों में कोरोना वायरस संक्रमण के उपचार एवं रोकथाम हेतु वर्तमान में लगभग 4500 आइसोलेशन एवं क्वॉरेंटाइन बेड उपलब्ध हैं. सप्ताह भर के भीतर इसे बढ़ाकर 11000 करने के निर्देश दिए गए हैं.

उत्तर प्रदेश के 51 मेडिकल कॉलेजों में स्थापित होंगे कोविद-19 अस्पताल

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • 51 मेडिकल कॉलेजों में कोविद-19 अस्पताल स्थापित किए जाएंगे
  • राज्य सरकार की ओर से सोमवार को जारी एक बयान में बताया गया
  • हर मेडिकल कॉलेज में कम से कम 20 आइसोलेशन बेड होंगे
लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के 51 मेडिकल कॉलेजों में कोविद-19 अस्पताल स्थापित किए जाएंगे. राज्य सरकार की ओर से सोमवार को जारी एक बयान में बताया गया कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में उत्तर प्रदेश के 24 सरकारी और 27 निजी मेडिकल कॉलेजों एवं चिकित्सा संस्थानों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की गई. बयान के अनुसार 51 मेडिकल कॉलेजों में कोरोना वायरस संक्रमण के उपचार एवं रोकथाम हेतु वर्तमान में लगभग 4500 आइसोलेशन एवं क्वॉरेंटाइन बेड उपलब्ध हैं. सप्ताह भर के भीतर इसे बढ़ाकर 11000 करने के निर्देश दिए गए हैं. हर मेडिकल कॉलेज में कम से कम 20 आइसोलेशन बेड एवं दो वेंटीलेटर तथा अधिक से अधिक 200 आइसोलेशन बेड एवं 20 वेंटिलेटर लगाने के निर्देश दिए गए.

बयान के अनुसार लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई में उत्तर प्रदेश का आधुनिक राजधानी कोविद हॉस्पिटल स्थापित किया जा रहा है जिसमें हाई रिस्क रोगियों के लिए 210 आइसोलेशन बेड एवं 80 से 100 वेंटीलेटर प्रस्तावित है. बयान के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 13 वृहद (200 शैया वाले आइसोलेशन वार्ड) कोविद अस्पताल एवं 38 मध्यम दर्जे के कोविद अस्पताल बनाए जा रहे हैं. 

ग्रेटर नोएडा में भी मिला कोरोना का मरीज, अल्फा-1 की सभी सोसायिटी और ब्लॉक किए गए सील

इसमें कहा गया कि सभी निजी मेडिकल कॉलेजों के कोविंद अस्पतालों का पर्यवेक्षण जिला अधिकारियों द्वारा किया जाएगा तथा एपिडेमिक एक्ट या दंड प्रक्रिया संहिता के तहत बाध्यकारी कार्रवाई की जाएगी. इस बीच एक अन्य बयान में बताया गया कि कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत लॉक डाउन किए गए 16 जिलों में सोमवार को आईपीसी की धारा 188 के तहत 228 मुकदमे दर्ज किए गए. बयान में कहा गया कि 10754 वाहनों का चालान किया गया जबकि 645 वाहन सीज किए गए. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)