NDTV Khabar

काशी विद्यापीठ ने 309 कॉलेजों को भेजा पत्र, हर कर्मचारी का खुलवाएं PF खाता

विद्यापीठ के कुलपति को रीजनल ईपीएफओ कमिश्नर उपेंद्र प्रताप सिंह ने पत्र जारी कर आदेश दिया है कि वे अपने और अधीन आने वाले कॉलेजों के कर्मचारियों का भविष्य निधि (PF) खाता खुलवाएं और उसमें नियमित रूप से पैसे जमा कराएं.

6 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
काशी विद्यापीठ ने 309 कॉलेजों को भेजा पत्र, हर कर्मचारी का खुलवाएं PF खाता

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी की तस्वीर

खास बातें

  1. काशी विद्यापीठ से संबद्ध कॉलेजों के कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर
  2. हर कर्मचारियों का खुलेगा पीएफ खाता
  3. ईपीएफओ ने विद्यापीठ को पत्र जारी कर दिया आदेश
नई दिल्ली: महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी से संबद्ध (Affiliated) कॉलेजों में कार्यरत कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर आई है. विद्यापीठ के कुलपति को ईपीएफओ के रीजनल कमिश्नर उपेंद्र प्रताप सिंह ने पत्र जारी कर विश्वविद्यालय को आदेश दिया है कि वे अपने और अधीन सभी कॉलेजों के कर्मचारियों का भविष्य निधि (PF) खाता खुलवाएं और उसमें नियमित रूप से पैसे जमा कराएं. सिंह के पत्र में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि कर्मचारियों का पीएफ खाता खुलवाने में कोई लापरवाही नहीं बरती जाए. भारत सरकार के केंद्रीय सचिव के आदेश का हवाला देते हुए कुलपति ने यह आदेश जारी किया है. 

ये भी पढ़ें:  जॉब चेंज करने पर PF खाता ट्रांसफर करने की टेंशन होगी फुर्र...

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी से इस वक्त उत्तर प्रदेश में 309 कॉलेज संबद्ध हैं. वाराणसी में 99, मिर्जापुर में 76, चंदौली में 68, सोनभद्र में 42 और भदोही के 24 कॉलेज इस विश्वविद्यालय से संबद्ध हैं. इसके अलावा बलिया जिले के भी कुछ कॉलेज यहां से संबद्ध हैं. ईपीएफओ के आदेश के बाद इन सभी कॉलेजों को कुलपति ने पत्र भेजकर कर्मचारियों का भविष्य निधि खाता खुलवाने का आदेश दिया है. 
 
mahatma gandhi kashi vidyapith
महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी के कुलपति को जारी ईपीएफओ के रीजनल कमिश्नर का खत. साथ में संबद्ध कुलसचिव का सभी कॉलेजों को भेजा है खत.

ये भी पढ़ें: मकान खरीदने, EMI भरने के लिए पीएफ खाते से निकाल सकते हैं 90% रकम, शर्त बस इतनी...

विद्यापीठ के कर्मचारियों को पहले ही मिल चुकी है खुशखबरी: इसी साल जून में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में कार्यरत संविदा कर्मचारियों को खुशी मिल चुकी है. वर्षों से भविष्य निधि की मांग कर रहे 240 संविदा कर्मचारियों के खातों में बकाया राशि जमा करा दी गई थी.

दरअसल, वाराणसी EPFO कार्यालय की ओर से लगातार फटकार के बाद महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के प्रशासन ने 240 कर्मचारियों के बकाया भविष्य निधि अंशदान (84,92,681 रुपये) जमा कराया था. यह रकम कर्मचारियों के खातों में एक जनवरी 2015 से दिसंबर 2016 तक बकाये राशि के तौर पर उनके पीएफ खातों में जमा कराई गई है.

VIDEO:श्रमिकों का कितना भला होगा?
मालूम हो कि है कि पिछले साल अगस्त महीने में केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय के अधीन कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ ) के वाराणसी ऑफिस ने संविदा कर्मचारियों की शिकायत पर महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के कुलपति को नोटिस भेजकर जवाब मांगा था. और तभी से बकाया राशि जमा कराने के लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन पर दबाव बनाया जा रहा था.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement