उत्तर प्रदेश: दबंगों से परेशान होकर थाने में खुदको आग लगाने वाले युवक की मौत, पत्नी की हालत अभी भी गंभीर

पुलिस ने मृतक की पहचान जोगेंद्र हारा के रूप में की गई है. वहीं, जोगेंद्र हारा की पत्नी चंद्रवती अभी भी सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रही है.

उत्तर प्रदेश: दबंगों से परेशान होकर थाने में खुदको आग लगाने वाले युवक की मौत, पत्नी की हालत अभी भी गंभीर

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले की पुलिस द्वारा मामले की सुनवाई न करने से तंग आकर पति-पत्नी ने खुदको आग लगा लिया था. घटना में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिन्हें बाद में इलाज के लिए दिल्ली भेज दिया गया था. दिल्ली में चार दिन के इलाज के दौरान पीड़ित युवक ने दम तोड़ दिया. पुलिस ने मृतक की पहचान जोगेंद्र हारा के रूप में की गई है. वहीं, जोगेंद्र हारा की पत्नी चंद्रवती अभी भी सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रही है. मथुरा पुलिस फिलहाल इस पूरे मामले की जां कर रही है. 

गंदे नाले में फेंक दी गई मासूम बच्ची के लिए फरिश्ते साबित हुए पुलिस कर्मी

गौरतलब है कि इस मामले के सामने आने के बाद पुलिस स्टेशन के प्रभारी सहित तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था और जांच के आदेश दे दिए थे. समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक जोड़ा अपने शरीर पर मिट्टी का तेल डालने के बाद बुधवार सुबह मथुरा के सुरीर थाने पहुंचा था. एक मोबाइल वीडियो में दंपति को आग में झुलसते हुए देखा जा सकता है, वहीं सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी आग की लपटों को बुझाने की कोशिश कर रहे हैं. पुलिस ने बताया था कि जोड़ा 60 फीसदी तक जल गया और उन्हें इलाज के लिए दिल्ली भेज दिया गया. 

तीन बहनों को किडनैप कर फिरौती मांग रहा था 'फर्जी दरोगा', पुलिस ने धर दबोचा

मथुरा के एसपी (ग्रामीण) आदित्य शुक्ला, 'चालीस वर्षीय जोगिंदर और उनकी पत्नी चंद्रवती गंभीर रूप से जल गईं. उन्हें पहले दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में रेफर किए जाने से पहले एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. कथित तौर पर दंपति ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी की गांव के कुछ दबंग लोग उन्हें परेशान कर रहे हैं, लेकिन कथित तौर पर पुलिस ने जब कोई कार्रवाई नहीं की तो उन्होंने खुद को आग लगा ली. मथुरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने पीटीआई को बताया था कि यह मामला 23 अगस्त की घटना से संबंधित था, जिसमें आरोपियों के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज की गई थी.  दंपति ने दावा किया कि पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.' माथुर ने कहा कि जिम्मेदार पुलिस अधिकारी का पता लगाने के लिए एक विस्तृत जांच की जा रही है, जिसने मामला दर्ज होने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की.

यूपी में अब अपराधियों की 'खैर नहीं', योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला- बन रही यह LIST

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

नाम न छापने की शर्त पर पीटीआई से बात करते हुए, ग्रामीणों ने कहा कि जोगिंदर और उनकी पत्नी ने सुरीर शहर में एक ईंटों के भट्टे पर काम करते थे, लेकिन गांव के चार लोगों उन्हें परेशान कर रहे थे. ये वो लोग थे जो उनकी जमीन हड़पना चाहते थे. उन्होंने था कहा कि 23 अगस्त को हुए एक विवाद के बाद जोगिंदर के सिर पर सतपाल और उसके साथियों ने हमला किया था, लेकिन पुलिस ने उसके सिर से खून बहने के बावजूद हमलावरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की.

VIDEO: स्वामी चिन्मयानंद पर कार्रवाई क्यों नहीं?