NDTV Khabar

प्रधानमंत्री मोदी की अगर नियत साफ है तो SC-ST अधिनियम पर अध्यादेश जारी करे : मायावती

भाजपा पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा, 'आज देशभर में दलितों का उत्पीड़न किया जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रधानमंत्री मोदी की अगर नियत साफ है तो SC-ST अधिनियम पर अध्यादेश जारी करे : मायावती

(फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती ने आंबेडकर जयंती के मौके पर शनिवार को कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीयत साफ है तो उन्हें अदालत के फैसले का इंतजार करने के बजाए एससी-एसटी अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाकर अध्यादेश जारी करना चाहिए. बाबा साहेब आंबेडकर की जयंती के मौके पर मायावती ने एक बयान जारी कर कहा कि बाबा साहेब के नाम से योजनाएं शुरू करने और उनसे जुड़े स्मारकों के उद्धघाटन से दलितों का विकास नहीं होने वाला है.

यह भी पढ़ें : असामाजिक-जातिवादी तत्वों ने हिंसा कर आंदोलन को बदनाम करने की साजिश की : मायावती

भाजपा पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा, 'आज देशभर में दलितों का उत्पीड़न किया जा रहा है. दो अप्रैल को भारत बंद के दौरान एससी-एसटी अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर बड़े पैमाने पर कार्रवाई की गई. भाजपा को बाबा साहेब के अनुयायियों के उत्थान की दिशा में ईमानदारी से काम करना चाहिए, तभी वह दलितों के दिल में कुछ जगह बना सकती है.

टिप्पणियां
VIDEO : 2019 के लिए बसपा प्रमुख मायावती का बड़ा ऐलान
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, 'मैं मोदी जी से कहना चाहती हूं कि अगर आपकी नीयत साफ है तो आपको अदालत के फैसले का इंतजार करने के बजाए एससी-एसटी अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाकर अध्यादेश जारी करना चाहिए. सरकार ने इस अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए अगर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद अध्यादेश जारी कर दिया होता तो दलितों को भारत बंद नहीं करना पड़ता.'

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement